Sunday, December 16, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

नोटिस का जवाब नहीं देने पर ‘बुझ’ सकती है राजद की लालटेन, चुनाव आयोग ने 20 दिनों का दिया समय 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नोटिस का जवाब नहीं देने पर ‘बुझ’ सकती है राजद की लालटेन, चुनाव आयोग ने 20 दिनों का दिया समय 

पटना। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद के साथ उनकी पार्टी की भी मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। सीबीआई द्वारा आईआरसीटीसी भ्रष्टाचार मामले में चार्जशीट दाखिल करने के बाद अब चुनाव आयोग ने बड़ा झटका दिया है। आयोग ने राष्ट्रीय जनता दल को वर्ष 2014-15 का लेखा-जोखा नहीं देने के चलते नोटिस जारी करते हुए 20 दिनों के अंदर जवाब मांगा है। इसके साथ ही आयोग ने यह भी चेतावनी दी है कि अगर तय समय पर जवाब नहीं दिया गया तो पार्टी का चुनाव चिन्ह ‘लालटेन’ को रद्द किया जा सकता है। 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार सभी राजनीतिक पार्टियों को वित्त वर्ष खत्म होने के अगले साल 31 अक्टूबर को अपनी पार्टी का हिसाब-किताब आयोग को देना होता है लेकिन राष्ट्रीय जनता दल ने अभी तक 2014-15 का लेखा-जोखा नहीं दिया है। इसी के मद्देनजर चुनाव आयोग ने अब राजद को नोटिस भेजा है। साथ ही इसके लिए पार्टी को 20 दिनों का समय दिया गया है। आयोग ने कहा कि तय समय पर जवाब नहीं देने पर बिना बताए कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें - नेपाल में भारतीय दूतावास के पास हुआ बम धमाका, किसी के हताहत होने की खबर नहीं


आयोग की ओर से कहा गया है कि राजद को अब तक 8 बार यानी 10 नवम्बर 2015, 20 जनवरी 2016, 26 फरवरी 2016, 25 मई 2016, 5 अक्टूबर 2016, 2 जून  2017, 12 जनवरी 2018 और 13 मार्च 2018 को रिमाइंडर जारी करके  हिसाब-किताब देने को कहा लेकिन पार्टी ने रिपोर्ट नहीं पेश की, इसलिए उसे अब कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है कि चुनाव चिह्न आदेश 1968 के पैरा 16 ए के तहत कार्रवाई क्यों न की जाए। 

आपको बता दें कि चुनाव आयोग ने पार्टी को सख्त निर्देश देते हुए कहा है कि अगर तय समय के अंदर अगर नोटिस का जवाब नहीं दिया गया तो राजद का चुनाव चिन्ह रद्द किया जा सकता है। यहां ये बात गौर करने वाली है कि कांग्रेस पार्टी के चुनाव चिन्ह ‘हाथ का पंजा’ रद्द करने पर चुनाव आयोग सुनवाई के लिए तैयार हो गया है। कांग्रेस के चुनाव चिन्ह को रद्द करने के लिए अश्विनी उपाध्याय ने चुनाव आयोग में याचिका दायर की थी। 

Todays Beets: