Thursday, April 26, 2018

Breaking News

   मायावती का पलटवार, कहा- सत्ता के अहंकार में जनता को मूर्ख समझ रही BJP; शाह के गुरू मोदी ने गिराया पार्टी का स्तर     ||   चीन के स्‍पर्म बैंक ने रखी अनोखी शर्त, सिर्फ कम्‍युनिस्‍टों का समर्थन करने वाले ही दान कर सकेंगे स्‍पर्म     ||   CBSE पेपर लीक: हिमाचल से टीचर समेत 3 गिरफ्तार, पूछताछ में हो सकता है अहम खुलासा     ||   बिहार: शराब और मुर्गे के साथ गश्त करने वाली पुलिस टीम निलंबित     ||   रेलवे की 90 हजार नौकरियों के आवेदन की आज लास्ट डेट, दो करोड़ 80 लाख कर चुके हैं अप्लाई     ||   कांग्रेस में बड़ा बदलाव: जनार्दन द्विवेदी की छुट्टी, गहलोत बने नए AICC महासचिव     ||   भारत ने चीन की तिब्बत सीमा पर भेजे और सैनिक, गश्त भी बढ़ाई     ||   अब कॉल सेंटर की नौकरियों पर नजर, अमेरिकी सांसद ने पेश किया बिल     ||   ब्लूमबर्ग मीडिया का दावा, 2019 छोड़िए 2029 तक पीएम रहेंगे नरेंद्र मोदी     ||   फेसबुक को डेटा लीक मामले से लगा तगड़ा झटका, 35 अरब डॉलर का नुकसान     ||

नोटिस का जवाब नहीं देने पर ‘बुझ’ सकती है राजद की लालटेन, चुनाव आयोग ने 20 दिनों का दिया समय 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नोटिस का जवाब नहीं देने पर ‘बुझ’ सकती है राजद की लालटेन, चुनाव आयोग ने 20 दिनों का दिया समय 

पटना। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद के साथ उनकी पार्टी की भी मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। सीबीआई द्वारा आईआरसीटीसी भ्रष्टाचार मामले में चार्जशीट दाखिल करने के बाद अब चुनाव आयोग ने बड़ा झटका दिया है। आयोग ने राष्ट्रीय जनता दल को वर्ष 2014-15 का लेखा-जोखा नहीं देने के चलते नोटिस जारी करते हुए 20 दिनों के अंदर जवाब मांगा है। इसके साथ ही आयोग ने यह भी चेतावनी दी है कि अगर तय समय पर जवाब नहीं दिया गया तो पार्टी का चुनाव चिन्ह ‘लालटेन’ को रद्द किया जा सकता है। 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार सभी राजनीतिक पार्टियों को वित्त वर्ष खत्म होने के अगले साल 31 अक्टूबर को अपनी पार्टी का हिसाब-किताब आयोग को देना होता है लेकिन राष्ट्रीय जनता दल ने अभी तक 2014-15 का लेखा-जोखा नहीं दिया है। इसी के मद्देनजर चुनाव आयोग ने अब राजद को नोटिस भेजा है। साथ ही इसके लिए पार्टी को 20 दिनों का समय दिया गया है। आयोग ने कहा कि तय समय पर जवाब नहीं देने पर बिना बताए कार्रवाई की जाएगी।

ये भी पढ़ें - नेपाल में भारतीय दूतावास के पास हुआ बम धमाका, किसी के हताहत होने की खबर नहीं


आयोग की ओर से कहा गया है कि राजद को अब तक 8 बार यानी 10 नवम्बर 2015, 20 जनवरी 2016, 26 फरवरी 2016, 25 मई 2016, 5 अक्टूबर 2016, 2 जून  2017, 12 जनवरी 2018 और 13 मार्च 2018 को रिमाइंडर जारी करके  हिसाब-किताब देने को कहा लेकिन पार्टी ने रिपोर्ट नहीं पेश की, इसलिए उसे अब कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है कि चुनाव चिह्न आदेश 1968 के पैरा 16 ए के तहत कार्रवाई क्यों न की जाए। 

आपको बता दें कि चुनाव आयोग ने पार्टी को सख्त निर्देश देते हुए कहा है कि अगर तय समय के अंदर अगर नोटिस का जवाब नहीं दिया गया तो राजद का चुनाव चिन्ह रद्द किया जा सकता है। यहां ये बात गौर करने वाली है कि कांग्रेस पार्टी के चुनाव चिन्ह ‘हाथ का पंजा’ रद्द करने पर चुनाव आयोग सुनवाई के लिए तैयार हो गया है। कांग्रेस के चुनाव चिन्ह को रद्द करने के लिए अश्विनी उपाध्याय ने चुनाव आयोग में याचिका दायर की थी। 

Todays Beets: