Wednesday, January 23, 2019

Breaking News

   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||

लखनऊ नगर निगम में स्वर्गवासी भी ले रहे सैलरी, अब होगी जांच

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लखनऊ नगर निगम में स्वर्गवासी भी ले रहे सैलरी, अब होगी जांच

लखनऊ। उत्तरप्रदेश के लखनऊ नगर निगम में एक अत्यंत ही  चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां कई सेवानिवृत्त और यहां तक की स्वर्गवासी हो चुके कर्मचारी भी अपना वेतन ले रहे हैं। भाजपा सरकार द्वारा नगर निगम में बायोमैट्रिक उपस्थिति अनिवार्य करने के बाद इस मामले का खुलासा हुआ है। इसकी जानकारी के बाद नगर निगम प्रशासन सकते में है। अब सवाल यह उठ रहा है कि कहीं रिटायर्ड और स्वर्गवासी हो चुके कर्मचारियों के नाम पर वेतन का फर्जीवाड़ा तो नहीं हो रहा था। इसको लेकर भी नगर निगम प्रशासन जांच कराएगा।

गौरतलब है कि लखनऊ नगर निगम में बायोमैट्रिक उपस्थिति के आधार पर ही कर्मचारियों के वेतन जारी किए जाते हैं। हाल ही में कराई गई जांच में इस बात का पता चला कि करीब 12 कर्मचारी ऐसे हैं जिनकी उपस्थिति बायोमैट्रिक मंे दर्ज नहीं है। जांच में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि जो सेवानिवृत्त हो चुके हैं या जिनका देहांत हो चुका है वे भी नौकरी कर रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - अमृतसर से दिल्ली लौट रही गाड़ी ट्रक से टकराई, एक ही परिवार के 7 लोगों की मौत


जल्द हटाया जाएगा नाम 

जोनल अभियंता की तरह से कहा गया है कि उन्हें एक सप्ताह पहले ही जोन की जिम्मेदारी मिली है। बायोमीट्रिक अटेंडेंस रिकॉर्ड को लेकर रिपोर्ट बनवाई गई थी। इसमें कुछ ऐसे कर्मचारियों के नाम भी दर्ज हैं जो रिटायर्ड हो चुके हैं या मृत्यु हो चुकी है। ऐसे कर्मचारियों के नाम हटाने के लिए उच्चाधिकारियों को लिखा गया है। लेखा विभाग को भी सूची भेज दी गई है।

Todays Beets: