Friday, April 26, 2019

Breaking News

   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||

लखनऊ नगर निगम में स्वर्गवासी भी ले रहे सैलरी, अब होगी जांच

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लखनऊ नगर निगम में स्वर्गवासी भी ले रहे सैलरी, अब होगी जांच

लखनऊ। उत्तरप्रदेश के लखनऊ नगर निगम में एक अत्यंत ही  चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां कई सेवानिवृत्त और यहां तक की स्वर्गवासी हो चुके कर्मचारी भी अपना वेतन ले रहे हैं। भाजपा सरकार द्वारा नगर निगम में बायोमैट्रिक उपस्थिति अनिवार्य करने के बाद इस मामले का खुलासा हुआ है। इसकी जानकारी के बाद नगर निगम प्रशासन सकते में है। अब सवाल यह उठ रहा है कि कहीं रिटायर्ड और स्वर्गवासी हो चुके कर्मचारियों के नाम पर वेतन का फर्जीवाड़ा तो नहीं हो रहा था। इसको लेकर भी नगर निगम प्रशासन जांच कराएगा।

गौरतलब है कि लखनऊ नगर निगम में बायोमैट्रिक उपस्थिति के आधार पर ही कर्मचारियों के वेतन जारी किए जाते हैं। हाल ही में कराई गई जांच में इस बात का पता चला कि करीब 12 कर्मचारी ऐसे हैं जिनकी उपस्थिति बायोमैट्रिक मंे दर्ज नहीं है। जांच में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि जो सेवानिवृत्त हो चुके हैं या जिनका देहांत हो चुका है वे भी नौकरी कर रहे हैं। 

ये भी पढ़ें - अमृतसर से दिल्ली लौट रही गाड़ी ट्रक से टकराई, एक ही परिवार के 7 लोगों की मौत


जल्द हटाया जाएगा नाम 

जोनल अभियंता की तरह से कहा गया है कि उन्हें एक सप्ताह पहले ही जोन की जिम्मेदारी मिली है। बायोमीट्रिक अटेंडेंस रिकॉर्ड को लेकर रिपोर्ट बनवाई गई थी। इसमें कुछ ऐसे कर्मचारियों के नाम भी दर्ज हैं जो रिटायर्ड हो चुके हैं या मृत्यु हो चुकी है। ऐसे कर्मचारियों के नाम हटाने के लिए उच्चाधिकारियों को लिखा गया है। लेखा विभाग को भी सूची भेज दी गई है।

Todays Beets: