Wednesday, November 14, 2018

Breaking News

   एसबीआई ने क्लासिक कार्ड से पैसे निकालने के बदले नियम    ||   बाजार में मंगलवार को आई बहार, सेंसेक्स और निफ्टी में बढ़त     ||   हिंदूराव अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में निकला सांप , हंगामा     ||   सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के आरोपों के बाद हो सकता है उनका लाइ डिटेक्टर टेस्ट    ||   देहरादून की मॉडल ने किया मुंबई में हंगामा , वाचमैन के साथ की हाथापाई , पुलिस आई तो उतार दिए कपड़े     ||   दंतेवाड़ा में नक्सली हमला, दो जवान शहीद , दुरदर्शन के कैमरामैन की भी मौत     ||   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||

गूगल को भाया पटना के ‘आर्यन’ का ऐप, इनामी राशि को गरीबों में दान करने की गुजारिश 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गूगल को भाया पटना के ‘आर्यन’ का ऐप, इनामी राशि को गरीबों में दान करने की गुजारिश 

पटना। बिहार के 9वीं कक्षा के छात्र आर्यन राज ने तकनीक के क्षेत्र में तीन नए ऐप को बनाकर अपने साथ पूरे प्रदेश का नाम रोशन किया है। बड़ी बात यह है कि आर्यन के इन तीनों ऐप को सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने एडाॅप्ट किया है और आर्यन को 2 लाख रुपये का इनाम देने का ऐलान किया है लेकिन छात्र ने इनाम की राशि लेने के बजाय इसे गरीबों में दान कर देने की बात कही है। आर्यन की इच्छा आईआईटी में दाखिला लेकर इंजीनियर बनने की है। 

गौरतलब है कि स्कूल के बाद आर्यन का ज्यादातर समय मोबाइल और कंप्यूटर पर बीतता है। ऐसे में उसने तीन ऐप, ‘कंप्यूटर शाॅर्टकट की’, ‘मोबाइल शाॅर्टकट की’ और ‘व्हाट्सऐप क्लीनर लाइट’ बनाया है। कंप्यूटर शार्टकट की और मोबाईल साफ्टवेयर की के जरिए किसी भी कंप्यूटर या मोबाइल आपरेटर आसानी से किसी भी साफ्टवेयर फंक्शन को ऑपरेट कर सकते हैं। वहीं व्हाट्सएप क्लीनर लाइट व्हाट्सएप की जंक फाइल को खुद स्कैन कर डिलीट कर देता है। आर्यन ने गूगल की 2 लाख रुपयों की पुरस्कार राशि को लेने से इंकार किया है और गूगल से अनुरोध किया कि इस रकम को गरीबों को दान कर दिया जाए। 


ये भी पढ़ें - केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह ने कहा- हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए नहीं काटे जाएंगे पेड़

यहां बता दें कि आर्यन पहले यूपीएससी क्वालीफाई कर प्रशासनिक अधिकारी बनना चाहता था लेकिन हाल के दिनों में इन अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगने और उनकी गिरफ्तारी के बाद अपना मन बदल लिया। अब वह इंजीनियर बनना चाहता है लेकिन वह अपनी आगे की योजना के बारे में किसी को कुछ नहीं बता रहा है।   

Todays Beets: