Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

गूगल को भाया पटना के ‘आर्यन’ का ऐप, इनामी राशि को गरीबों में दान करने की गुजारिश 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गूगल को भाया पटना के ‘आर्यन’ का ऐप, इनामी राशि को गरीबों में दान करने की गुजारिश 

पटना। बिहार के 9वीं कक्षा के छात्र आर्यन राज ने तकनीक के क्षेत्र में तीन नए ऐप को बनाकर अपने साथ पूरे प्रदेश का नाम रोशन किया है। बड़ी बात यह है कि आर्यन के इन तीनों ऐप को सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने एडाॅप्ट किया है और आर्यन को 2 लाख रुपये का इनाम देने का ऐलान किया है लेकिन छात्र ने इनाम की राशि लेने के बजाय इसे गरीबों में दान कर देने की बात कही है। आर्यन की इच्छा आईआईटी में दाखिला लेकर इंजीनियर बनने की है। 

गौरतलब है कि स्कूल के बाद आर्यन का ज्यादातर समय मोबाइल और कंप्यूटर पर बीतता है। ऐसे में उसने तीन ऐप, ‘कंप्यूटर शाॅर्टकट की’, ‘मोबाइल शाॅर्टकट की’ और ‘व्हाट्सऐप क्लीनर लाइट’ बनाया है। कंप्यूटर शार्टकट की और मोबाईल साफ्टवेयर की के जरिए किसी भी कंप्यूटर या मोबाइल आपरेटर आसानी से किसी भी साफ्टवेयर फंक्शन को ऑपरेट कर सकते हैं। वहीं व्हाट्सएप क्लीनर लाइट व्हाट्सएप की जंक फाइल को खुद स्कैन कर डिलीट कर देता है। आर्यन ने गूगल की 2 लाख रुपयों की पुरस्कार राशि को लेने से इंकार किया है और गूगल से अनुरोध किया कि इस रकम को गरीबों को दान कर दिया जाए। 


ये भी पढ़ें - केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह ने कहा- हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए नहीं काटे जाएंगे पेड़

यहां बता दें कि आर्यन पहले यूपीएससी क्वालीफाई कर प्रशासनिक अधिकारी बनना चाहता था लेकिन हाल के दिनों में इन अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगने और उनकी गिरफ्तारी के बाद अपना मन बदल लिया। अब वह इंजीनियर बनना चाहता है लेकिन वह अपनी आगे की योजना के बारे में किसी को कुछ नहीं बता रहा है।   

Todays Beets: