Sunday, February 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

मेधा पाटकर को अनशन से पुलिस ने जबरन हटाया, अस्पताल में करवाया भर्ती

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मेधा पाटकर को अनशन से पुलिस ने जबरन हटाया, अस्पताल में करवाया भर्ती

भोपाल।

सरदार सरोवर बांध के विस्थापितों के पुनर्वास की मांग को लेकर अनशन पर बैठीं सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटर और उनके साथियों को पुलिस ने जबरन प्रदर्शन स्थल से हटा दिया है। पुलिस ने पाटकर सहित अनशन पर बैठे लोगों को खराब स्वास्थ्य के चलते इंदौर, बड़ानी और धार के अलग—अलग अस्पतालों में भर्ती कराया है। दरअसल, मेधा पाटकर और 11 अन्य कार्यकर्ता मध्यप्रदेश में विस्थापितों के पुनर्वास की मांग को लेकर पिछले 12 दिन से अनशन पर थे।

अनशन से इन्हें हटाने के बाद मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा, मैं संवेदनशील व्यक्ति हूं। चिकित्सकों की सलाह पर मेधा पाटकर और उनके साथियों को अस्पाल में भर्ती कराया गया है, गिरफ्तार नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि मेधा पाटकर और उनके साथियों की स्थिति चिंतनीय थी। इसलिए ये कदम उठाया गया। उन्होंने यह भी कहा कि विस्थापितों के पुनर्वास के लिए प्रदेश सरकार ने नर्मदा पंचाट व सुप्रीम कोर्ट के आदेश के पालन के साथ 900 करोड़ रुपये का अतिरिक्त पैकेज देने का काम किया है।

जानकारी के अनुसार, मेधा को इंदौर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी हालत ठीक है और डॉक्टर उनके स्वास्थ्य की जांच कर रहे हैं। सेहत में सुधार के लिए ड्रिप के जरिए जरूरी तत्व और दवाइयां दी जा रही हैं।


पुलिस कर्मियों की की धक्का—मुक्की

इंदौर रेंज के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एडीजी) अजय शर्मा ने बताया कि अनशन करने वालों को उठाने के दौरान वहां मौजूद लोगों ने पुलिस के साथ धक्का—मुक्की की। इसमें सात पुलिसकर्मी घायल हो गए। सरकारी गाड़ियों के कांच भी टूट गए और कुछ वायरलेस सेट गायब हो गए। वहीं प्रदर्शनकारियों के साथ मौजूद लोगों का कहना है कि पुलिस ने मेधा और साथियों को हटाने के लिए बल प्रयोग किया और प्रदर्शनकारियों के साथ मार—पीट की।

 

Todays Beets: