Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

मोहसिन रजा ने कराया अपने निकाह का रजिस्ट्रेशन, दारुल उलेम ने बताया धार्मिक आजादी के खिलाफ

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मोहसिन रजा ने कराया अपने निकाह का रजिस्ट्रेशन, दारुल उलेम ने बताया धार्मिक आजादी के खिलाफ

लखनऊ।

योगी सरकार द्वारा सभी धर्मों के लिए मैरिज रजिस्ट्रेशन अनिवार्य किए जाने के बाद मंत्री मोहसिन रजा ने गुरुवार को अपना निकाह रजिस्टर करवाया। गुरुवार को मोहसिन रजा अपनी पत्नी, मां, ससुर और अपने बेटे के साथ निकाहनामा रजिस्टर कराने कलेक्ट्रेट पहुंचे। रजिस्ट्रेशन से पहले रजा के परिवार ने इसके लिए एक बार फिर शादी जैसी तैयारियां कीं। इस अवसर पर मोहसिन रजा की पत्नी ने मेहंदी लगाई और गहने पहले फिर अपने माता—पिता और पति मोहसिन रजा के साथ कलेक्ट्रेट पहुंचीं। 

शादी का रजिस्ट्रेशन करवाते समय मोहसिन रजा ने कहा कि वो एक जिम्मेदार पद पर बैठे हैं, उन्होंने इसकी पहल की है। ऐसे में इसका मैसेज पूरे समुदाय में जाएगा। मोहसिन रजा के मुताबिक यह ऐसी पहल है जिससे खुद-ब-खुद ट्रिपल तलाक पर काफी हद तक रोक लग जाएगी और औरतों को अधिकार के तौर पर बड़ा हथियार हाथ लगेगा।

बता दें कि मंगलवार को योगी कैबिनेट की बैठक में रजिस्ट्रेशन कराने की अनिवार्यता पर मुहर लगाई थी जिसके तहत सभी नए पुराने दंपत्ति को अपनी शादी या निकाहनामे को रजिस्टर कराना जरूरी होगा। नए नियमों के अनुसार, शादियों का रजिस्ट्रेशन आधार कार्ड से जुड़ेगा तभी किसी योजना का लाभ परिवार उठा सकेगा।

दारुल उलेम ने किया फैसले का विरोध

शादी का पंजीकरण जरूरी करने के योगी सरकार के फैसले को दारुल उलेम और अन्य देवबंदी उलेमाओं ने धार्मिक आजादी के खिलाफ बताया है। इन्होंने कहा, हम शादी के पंजीकरण के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन ऐसा न करने वालों को सरकारी सुविधाओं से वंचित रखने का फरमान उत्पीड़न है। दारुल उलूम के मोहतमिम मौलाना मुफ़्ती अबुल कासिम नोमानी बनारसी ने कहा कि शादी के पंजीकरण को जोर जबरदस्ती से लागू करना मजहबी आजादी के खिलाफ है। उन्होंने कहा कि यह कहना कि अगर पंजीकरण नहीं कराया जाएगा तो कानूनी हक से वंचित कर दिया जाएगा, यह सीधे-सीधे उत्पीड़न करने वाला निर्णय है।


 

 

 

 

 

 

Todays Beets: