Friday, November 24, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

उत्तरप्रदेश में 4 हजार से ज्यादा प्राईमरी शिक्षकों पर गिरेगी गाज, किए जाएंगे बर्खास्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरप्रदेश में 4 हजार से ज्यादा प्राईमरी शिक्षकों पर गिरेगी गाज, किए जाएंगे बर्खास्त

लखनऊ। उत्तराखंड के बाद अब उत्तरप्रदेश में भी फर्जी अंकपत्रों के आधार पर नौकरी पाने वाले 4 हजार से ज्यादा प्राईमरी शिक्षकों की बर्खास्तगी तय है। इन शिक्षकों ने बीआर अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा से बीएड की डिग्री हासिल की है। एसआईटी के द्वारा की जा रही जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। अब इन सभी शिक्षकों की सूची को जिलों को भेज दिया गया है। 

8 की जगह 12 हजार छात्रों को कराया बीएड

गौरतलब है कि राज्य के हजारों प्राईमरी शिक्षकों ने साल 2004-05 में बीआर अंबेडकर विश्वविद्यालय से बीएड की फर्जी मार्कशीट हासिल कर उत्तरप्रदेश के स्कूलों में नौकरी हासिल की थी लेकिन एसआईटी की जांच में अब यह खुलासा हुआ है कि एनटीसीई ने विश्वविद्यालय को करीब 8 हजार छात्रों को बीएड का कोर्स कराने की अनुमति दी थी लेकिन विश्वविद्यालय ने 12 हजार से ज्यादा छात्रों को यह कोर्स करा दिया।  इनमें केहरीमल गौतम स्मारक महाविद्यालय, नगला सरुआ अलीगढ़ और जयमूर्ति कॉलेज, नगला बाल सिरसागंज, फिरोजाबाद को बीएड सत्र संचालित करने के लिए न तो मान्यता दी गई और न ही सम्बद्धता। इसके बावजूद यहां से ऊंचे प्राप्तांकों वाली 147-147 फर्जी अंकतालिकाएं जारी कर दी गईं। इसे विवि ने अपने टैबुलेशन चार्ट में भी दिखाया है।  जांच में यह सभी फर्जी पाए गए।

ये भी पढ़ें - जब पिता को देख भावुक हो गए सीएम योगी आदित्यनाथ, जानिए पिता से क्या कहा...

शिक्षकों पर होगी कार्रवाई 

आपको बता दें कि राज्य के शिक्षा सचिव राज प्रताप सिंह ने फर्जी अंकपत्रों के आधार पर नौकरी पाने वाले सभी शिक्षकों की सूची जिले को भेज दी है। अब इन सब पर कार्रवाई की जाएगी। 

 

 

 

 


 

 

 

 

 

 

 

 

 

Todays Beets: