Sunday, February 24, 2019

Breaking News

   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||   हिमाचल प्रदेश: किन्नौर जिले में आया भूकंप, तीव्रता 3.5     ||   PAK सेना के ISPR के डीजी ने कहा- हम युद्ध की तैयारी नहीं कर रहे, भारत धमकी दे रहा है     ||   ICC को खत लिखेगी BCCI- आतंक समर्थक देश के साथ खत्म हो क्रिकेट संबंध     ||   महाराष्ट्रः ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा चलाई गई शकुंतला नैरो गेज ट्रेन में लगी आग     ||   केरलः दक्षिण पश्चिम तट से अवैध तरीके से भारत में घुसते 3 लोग गिरफ्तार     ||   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||

उत्तरप्रदेश में 4 हजार से ज्यादा प्राईमरी शिक्षकों पर गिरेगी गाज, किए जाएंगे बर्खास्त

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तरप्रदेश में 4 हजार से ज्यादा प्राईमरी शिक्षकों पर गिरेगी गाज, किए जाएंगे बर्खास्त

लखनऊ। उत्तराखंड के बाद अब उत्तरप्रदेश में भी फर्जी अंकपत्रों के आधार पर नौकरी पाने वाले 4 हजार से ज्यादा प्राईमरी शिक्षकों की बर्खास्तगी तय है। इन शिक्षकों ने बीआर अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा से बीएड की डिग्री हासिल की है। एसआईटी के द्वारा की जा रही जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। अब इन सभी शिक्षकों की सूची को जिलों को भेज दिया गया है। 

8 की जगह 12 हजार छात्रों को कराया बीएड

गौरतलब है कि राज्य के हजारों प्राईमरी शिक्षकों ने साल 2004-05 में बीआर अंबेडकर विश्वविद्यालय से बीएड की फर्जी मार्कशीट हासिल कर उत्तरप्रदेश के स्कूलों में नौकरी हासिल की थी लेकिन एसआईटी की जांच में अब यह खुलासा हुआ है कि एनटीसीई ने विश्वविद्यालय को करीब 8 हजार छात्रों को बीएड का कोर्स कराने की अनुमति दी थी लेकिन विश्वविद्यालय ने 12 हजार से ज्यादा छात्रों को यह कोर्स करा दिया।  इनमें केहरीमल गौतम स्मारक महाविद्यालय, नगला सरुआ अलीगढ़ और जयमूर्ति कॉलेज, नगला बाल सिरसागंज, फिरोजाबाद को बीएड सत्र संचालित करने के लिए न तो मान्यता दी गई और न ही सम्बद्धता। इसके बावजूद यहां से ऊंचे प्राप्तांकों वाली 147-147 फर्जी अंकतालिकाएं जारी कर दी गईं। इसे विवि ने अपने टैबुलेशन चार्ट में भी दिखाया है।  जांच में यह सभी फर्जी पाए गए।

ये भी पढ़ें - जब पिता को देख भावुक हो गए सीएम योगी आदित्यनाथ, जानिए पिता से क्या कहा...

शिक्षकों पर होगी कार्रवाई 

आपको बता दें कि राज्य के शिक्षा सचिव राज प्रताप सिंह ने फर्जी अंकपत्रों के आधार पर नौकरी पाने वाले सभी शिक्षकों की सूची जिले को भेज दी है। अब इन सब पर कार्रवाई की जाएगी। 

 

 

 

 


 

 

 

 

 

 

 

 

 

Todays Beets: