Tuesday, December 18, 2018

Breaking News

   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||   बजरंगबली पर दिए गए बयान को लेकर हिन्दू महासभा ने योगी को कानूनी नोटिस भेजा     ||   पीएम मोदी 3 द‍िसंबर को हैदराबाद में लेंगे पब्ल‍िक मीट‍िंग     ||   भगत स‍िंह आतंकवादी नहीं, हमारे देश को उन पर गर्व है- फारुख अब्दुल्ला     ||   अन‍िल अंबानी की जेब में देश का पैसा जा रहा है-राहुल गांधी     ||

राजस्थान में शिक्षा विभाग का अजीबों गरीब फरमान, स्कूलों में शनिवार को होगा बाबाओं का प्रवचन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राजस्थान में शिक्षा विभाग का अजीबों गरीब फरमान, स्कूलों में शनिवार को होगा बाबाओं का प्रवचन

नई दिल्ली। राजस्थान के शिक्षा विभाग ने स्कूलों को लेकर एक अजीब फरमान जारी कर बच्चों को संस्कारी बनाने का अनोखा तरीका सुझाया है। शिक्षा विभाग ने स्कूल के अतिरिक्त पाठयक्रम की गतिविधियों की सूची प्रस्तुत की है। इस सूची में कहा गया कि महीने के तीसरे शनिवार को  स्कूल में बच्चों को बाबाओं और संतो  के प्रवचन सुनाए जाएंगे। इस तरह के आयोजन करने के पीछे विभाग का तर्क है कि इस प्रकार के आयोजन से स्कूलों में पढ़ाई के साथ-साथ बच्चें  संस्कार भी सीख सकते हैं ।

वैसे तो पहले भी राज्य के स्कूलों में इस प्रकार के आयोजन होते थे ,लेकिन लापरवाही के चलते विभाग ध्यान नहीं देता था । मगर इस बार विभाग ने अतिरिक्त पाठयक्रम की गतिविधियों की सूची स्कूलों के लिए जारी की है। अमूमन इस प्रकार के आयोजन में बाल सभा की जाती है , जिनमें बच्चों को बाल संरक्षण से संबंधित फिल्में दिखाना , चित्रकला प्रतियोगिता करवाना , आदि जैसे कार्य किए जाते हैं । इस प्रकार के कार्यों के माध्यम से बच्चों के अंदर बाल संरक्षण के संबंध में जागरुकता पैदा की जाती है।


 विभाग की सूची के मुताबिक, स्कूल में पहले शनिवार को किसी बाबा या संत को बुलाकर स्कूल में प्रवचन और जानकारी दी जाएगी। इसी तरह तीसरे शनिवार को राष्ट्रीय महत्व के समसामयिक समाचारों पर चर्चा कि जाएगी । महीने के चौथे शनिवार को साहित्य और महाकाव्यों पर प्रश्न और उत्तर पूछने का कार्य किया जाएगा । यदि किसी महीने में पांचवा शनिवार भी पड़ जाए तो उस दिन स्कूल में नाटक मंचन किया जाएगा।

 

Todays Beets: