Friday, October 19, 2018

Breaking News

   सेना हर चुनौती से न‍िपटने के ल‍िए तैयार, सर्जिकल स्ट्राइक भी व‍िकल्‍प: रणबीर सिंह    ||   BJP विधायक मानवेंद्र ने बदला पाला, राज्यवर्धन बोले- कांग्रेस ने 70 साल में मंत्री नहीं बनाया    ||   सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर छिड़ी जंग, हिरासत में 30 प्रदर्शनकारी    ||   विवेक तिवारी हत्याकांडः HC की लखनऊ बेंच ने CBI जांच की मांग ठुकराई    ||   केरलः अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद ने सबरीमाला फैसले के खिलाफ HC में लगाई याचिका    ||   कोलकाताः HC ने दुर्गा पूजा आयोजकों को ममता के 28 करोड़ देने के फैसले पर रोक लगाई    ||    रूस के साथ S-400 एयर डिफेंस मिसाइल पर भारत की डील    ||   नार्वेः राजधानी ओस्लो में आज होगा शांति के नोबेल पुरस्कार का ऐलान    ||   अंकित सक्सेना मर्डर केसः ट्रायल के लिए अभियोगपक्ष के 2 वकीलों की नियुक्ति    ||   जम्मू कश्मीर में नेशनल कॉफ्रेंस के दो कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या, मरने वालों में एक MLA का पीए भी     ||

अब यूपी में 50 साल से ऊपर वाले शिक्षक-कर्मचारी होंगे रिटायर, शिक्षा विभाग ने जारी किए दिशा निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब यूपी में 50 साल से ऊपर वाले शिक्षक-कर्मचारी होंगे रिटायर, शिक्षा विभाग ने जारी किए दिशा निर्देश

लखनऊ। प्रशासनिक अमलों में वरिष्ठ अधिकारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्त करने की घोषणा के बाद उत्तरप्रदेश सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में भी ऐसा ही कदम उठाने जा रही है। माध्यमिक शिक्षा के बाद अब बेसिक शिक्षा विभाग को भी ऐसी 50 साल से ऊपर की उम्र वाले शिक्षकों और कर्मचारियों की स्क्रीनिंग करने के निर्देश जारी किए हैं। बेसिक शिक्षा अधिकारी की ओर से सभी नगर शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर कहा गया है कि ऐसे शिक्षकों और कर्मचारियों की प्रस्तावित कर फौरन रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है। 

गौरतलब है कि राज्य सरकार शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए कई तरह के उपाय कर रही है। इसके तहत परिषदीय शिक्षक एवं कर्मचारियों की अनिवार्य सेवानिवृत्ति के लिए स्क्रीनिंग की जानी है। बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ. अमर कांत सिंह के पत्र के अनुसार, मूल नियम-56 में यह व्यवस्था है कि नियुक्ति प्राधिकारी कभी भी किसी सरकारी सेवक को (चाहे वह स्थाई हो या अस्थाई) नोटिस देकर बिना कोई कारण बताए 50 वर्ष की आयु पूरी करने पर उससे सेवानिवृत्त होने की अपेक्षा कर सकता है।

ये भी पढ़ें - कांके में भी दोहराया गया ‘बुराड़ी कांड’, एक ही परिवार के 7 लोगों ने की आत्महत्या


यहां बता दें कि सभी शिक्षकों और कर्मचारियों को 3 महीने का नोटिस दिया गया है। इस समय सीमा के अंदर सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को 50 साल से ज्यादा उम्र वाले शिक्षकों और कर्मचारियों के नाम देने होंगे। नाम आने के बाद पूरी रिपोर्ट बेसिक शिक्षा परिषद को भेजी जाएगी। 

 

Todays Beets: