Monday, October 23, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

व्यापमं घोटाले के आरोपी प्रवीण ने अपने घर में की खुदकुशी, कोर्ट-कचहरी में चक्कर काटने से था परेशान

अंग्वाल संवाददाता
व्यापमं घोटाले के आरोपी प्रवीण ने अपने घर में की खुदकुशी, कोर्ट-कचहरी में चक्कर काटने से था परेशान

मुरैना । एक बार फिर व्यापमं का जिन्न बाहर निकल कर आया है। व्यापमं घोटाले के आरोपियों पर छाए संकट के बादल एक बार फिर गहराए हैं। इस बार मुरैना स्थित महाराजपुर गांव में व्यापमं घोटाले के एक आरोपी प्रवीण यादव ने बुधवार सुबह अपने घर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। प्रवीण का वर्ष 2008 में चिकित्सा शिक्षा के लिए चयन हुआ था। हालांकि बाद में व्यापमं घोटाला उजागर होने पर वर्ष 2012 में उसे इस घोटाले में आरोपी बनाया गया था। इस पूरे घटनाक्रम पर प्रवीण के परिजनों का कहना है कि जब से उस पर इस घोटाले मे शामिल होने के आरोप लगे थे तभी से वह काफी परेशान रहने लगा था। 

ये भी पढ़ें- टेरर फंडिंग पर एक और करारी चोट, श्रीनगर से शब्बीर शाह मनी लॉड्रिंग मामले में गिरफ्तार

जानकारी के मुताबिक प्रवीण कुमार मंगलवार कुछ परेशान नजर आ रहा था। बुधवार सुबह सुबह उसने अपने घर में ही खुदकुशी कर ली। बताया जा रहा है कि व्यापमं घोटाले की जांच के लिए गठित एसआईटी ने जांच में प्रवीण की नियुक्ति पर भी सवाल उठाए थे और उसे इस घोटाले में आरोपी बनाया था। परिजनों का कहना है कि एसआईटी द्वारा आरोपी बनाए जाने के बाद से वह नियमित रूप से जबलपुर हाईकोर्ट में पेशी पर जाता रहा है। हालांकि बार बार बयान देने के लिए बुलाए जाने से वह परेशान हो गया था। उसके पास इस समय कोई नौकरी भी नहीं थी। न ही इस केस के चक्कर में आकर वह कोई कामकाज ही कर पा रहा था। 


ये भी पढ़ें- रामनाथ कोविंद ने ली राष्ट्रपति पद की शपथ, कहा हम अलग फिर भी एक हैं

परिजनों ने आरोप लगाया है कि उनका बच्चा पढ़ने में तेज था। अपनी शैक्षिक योग्यता के बल पर ही उसका चयन व्यापमं में हुआ था लेकिन बाद में उसे झूठे केस में फंसा दिया गया, जिसके चलते अब उसने अपना अंत कर लिया है। 

Todays Beets: