Monday, December 11, 2017

Breaking News

   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद     ||   अश्विन ने लगाया विकेटों का सबसे तेज 'तिहरा शतक', लिली को छोड़ा पीछे     ||   पूरा हुआ सपना चौधरी का 'सपना', बेघर होने के साथ बॉलीवुड से मिला बड़ा ऑफर    ||   PAK सरकार ने शर्तें मानीं, प्रदर्शन खत्म करने कानून मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा    ||   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||

व्यापमं घोटाले के आरोपी प्रवीण ने अपने घर में की खुदकुशी, कोर्ट-कचहरी में चक्कर काटने से था परेशान

अंग्वाल संवाददाता
व्यापमं घोटाले के आरोपी प्रवीण ने अपने घर में की खुदकुशी, कोर्ट-कचहरी में चक्कर काटने से था परेशान

मुरैना । एक बार फिर व्यापमं का जिन्न बाहर निकल कर आया है। व्यापमं घोटाले के आरोपियों पर छाए संकट के बादल एक बार फिर गहराए हैं। इस बार मुरैना स्थित महाराजपुर गांव में व्यापमं घोटाले के एक आरोपी प्रवीण यादव ने बुधवार सुबह अपने घर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। प्रवीण का वर्ष 2008 में चिकित्सा शिक्षा के लिए चयन हुआ था। हालांकि बाद में व्यापमं घोटाला उजागर होने पर वर्ष 2012 में उसे इस घोटाले में आरोपी बनाया गया था। इस पूरे घटनाक्रम पर प्रवीण के परिजनों का कहना है कि जब से उस पर इस घोटाले मे शामिल होने के आरोप लगे थे तभी से वह काफी परेशान रहने लगा था। 

ये भी पढ़ें- टेरर फंडिंग पर एक और करारी चोट, श्रीनगर से शब्बीर शाह मनी लॉड्रिंग मामले में गिरफ्तार

जानकारी के मुताबिक प्रवीण कुमार मंगलवार कुछ परेशान नजर आ रहा था। बुधवार सुबह सुबह उसने अपने घर में ही खुदकुशी कर ली। बताया जा रहा है कि व्यापमं घोटाले की जांच के लिए गठित एसआईटी ने जांच में प्रवीण की नियुक्ति पर भी सवाल उठाए थे और उसे इस घोटाले में आरोपी बनाया था। परिजनों का कहना है कि एसआईटी द्वारा आरोपी बनाए जाने के बाद से वह नियमित रूप से जबलपुर हाईकोर्ट में पेशी पर जाता रहा है। हालांकि बार बार बयान देने के लिए बुलाए जाने से वह परेशान हो गया था। उसके पास इस समय कोई नौकरी भी नहीं थी। न ही इस केस के चक्कर में आकर वह कोई कामकाज ही कर पा रहा था। 


ये भी पढ़ें- रामनाथ कोविंद ने ली राष्ट्रपति पद की शपथ, कहा हम अलग फिर भी एक हैं

परिजनों ने आरोप लगाया है कि उनका बच्चा पढ़ने में तेज था। अपनी शैक्षिक योग्यता के बल पर ही उसका चयन व्यापमं में हुआ था लेकिन बाद में उसे झूठे केस में फंसा दिया गया, जिसके चलते अब उसने अपना अंत कर लिया है। 

Todays Beets: