Thursday, February 20, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

2 से अधिक बच्चे मां की सेहत के लिए खतरा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
2 से अधिक बच्चे मां की सेहत के लिए खतरा

नई दिल्ली। मां बनना औरतों के लिए एक बेहद सुखद एहसास है मां बनकर ही एक औरत खुद को पूरा महसूस करती है पर कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के अध्ययन के मुताबिक एक चौंका देने वाला सच सामने आया है। इस अध्ययन के मुताबिक दो से अधिक बच्चे होना मां की सेहत पर बहुत बुरा असर डालता है।

बच्चे जितने ज्यादा खतरा उतना बड़ा

वैज्ञानिकों के अनुसार एक महिला के जितने अधिक बच्चे होंगे उसे हार्ट अटैक, स्ट्रोक और हार्ट फेल होने का खतरा भी उतना अधिक होगा। अध्ययन के अनुसार उन मांओं को हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा होता है जिनके पांच से अधिक बच्चे होते हैं।

सेहत पर ध्यान न देने से बढ़ता है हार्ट अटैक का खतरा

शोधकर्ताओं का कहना है कि गर्भावस्था और लेबर से स्त्री के दिल पर दबाव पड़ता है। बच्चों की वजह से यह तनाव और भी बढ़ जाता है। शोध में कहा गया है कि बच्चों के पालन-पोषण में उलझी मांओं के पास अपनी सेहत पर ध्यान देने के लिए समय ही नहीं होता है।


गर्भावस्था व प्रसव से दिल पर पड़ता है असर

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में 45 से 64 वर्ष की 8 हजार महिलाओं पर किए गए शोध में इस बात का पता चला है कि गर्भावस्था और प्रसव से औरतों के हृदय पर काफी दबाव पड़ता है । साथ ही बच्चों की परवरिश महिलाओं को और थका देती है।

गर्भपात से गुजर चुकी महिलाओं के लिए अधिक खतरा

शोध के अनुसार जिन महिलाओं का पूर्व में गर्भपात हो चुका है, उनमें हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा 60 फीसदी तक बढ़ जाता है। इन महिलाओं में हार्ट फेल होने की आशंका भी 45 फीसदी तक बढ़ जाती है। 

 

Todays Beets: