Tuesday, May 24, 2022

Breaking News

    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||   आंध्र प्रदेश: गुड़ी पड़वा के जश्न के दौरान भक्तों के बीच मंदिर में मारपीट, दुकानों में तोड़फोड़-आगजनी     ||   दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके जाने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचीं राणा अयूब     ||   सोनिया गांधी ने बोला केंद्र पर हमला, लगाया MGNREGA का बजट कम करने का आरोप     ||   केजरीवाल के आवास पर हमला: दिल्ली HC पहुंची AAP, एसआईटी गठन की मांग की     ||   राज्यसभा जा सकते हैं शिवपाल यादव! दो दिन से जारी है बीजेपी मुलाकातों का दौर     ||   यूपी हज समिति के अध्यक्ष बने मोहसिन रजा, राज्यमंत्री का भी दर्जा मिला     ||   दिल्ली: नई शराब नीति के विरोध में BJP, पटेल नगर समेत 14 जगहों पर शराब की दुकानें की सील     ||

प्रोफेसर शांतिश्री धुलीपुड़ी पंडित बनी JNU की पहली महिला चांसलर , जानें उनसे जुड़ी खास बातें

अंग्वाल न्यूज डेस्क

प्रोफेसर शांतिश्री धुलीपुड़ी पंडित बनी JNU की पहली महिला चांसलर , जानें उनसे जुड़ी खास बातें

नई दिल्‍ली । देश की प्रतिष्ठित जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) की कमान पहली बार एक महिला के हाथ में दी गई है । असल में पुणे यून‍िवर्सिटी की प्रोफेसर शांतिश्री धुलीपुड़ी पंडित (Prof. Santishree Dhulipudi Pandit) को जेएनयू का नया वाइस चांसलर नियुक्‍त किया गया है। सोमवार को निवर्तमान वीसी जगदीश कुमार ने उन्हें चार्ज सौंप दिया । टीचिंग में 34 साल से ज्‍यादा का अनुभव रखने वाली प्रफेसर शांतिश्री धुलीपुड़ी पंडित ने पुणे यूनिवर्सिटी के अलावा गोवा यूनिवर्सिटी, ओस्‍मानिया यूनिवर्सिटी, रक्षाशक्ति यूनिवर्सिटी, मद्रास यूनिवर्सिटी में भी बढ़ाया है। इसके अलावा वह केंद्र सरकार की कई अहम समितियों में भी शामिल रही हैं। हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, तमिल जैसी छह भाषाओं में दक्ष प्रफेसर पंडित कन्‍नड़, मलयालम और कोंकणी भी समझ लेती हैं।

सेंट पीटर्सबर्ग में पैदा हुईं

पुणे यूनिवर्सिटी में पॉलिटिक्‍स और पब्लिक एडमिनिस्‍ट्रेशन पढ़ाने वाली प्रोफेसर पंडित की पैदाइश रूस के सेंट पीटर्सबर्ग की है। उनकी शुरुआती पढ़ाई चेन्नई में हुई । इसके बाद उन्होंने जेएनयू से एम.फिल में टॉप किया, फिर यहीं से ही पीएचडी भी की। 1996 में उन्होंने स्‍वीडन की उप्‍पसला यूनविर्सिटी से डॉक्‍टोरल डिप्‍लोमा हासिल किया। 

पिता सिविल सर्विसिज में थे

प्रोफेसर पंडित के पिता सिविल सर्विसिज में थे , जबकि उनकी मां लेनिनग्राद (अब सेंट पीटर्सबर्ग) ओरियंटल फैकल्‍टी डिपार्टमेंट में तमिल और तेलुगू की प्रफेसर थीं। अंतराष्‍ट्रीय विषयों पर मजबूत पकड़ रखने वाली प्रोफेसर ने कई रिसर्च प्रॉजेक्‍ट्स में अहम  भूमिका निभाई है । इतना ही नहीं दुनिया के कई नामी संस्‍थानों में उनकी फेलोशिप है। राष्‍ट्रीय-अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर उन्‍हें कई सम्मानों से भी नवाजा जा चुका है।

उनकी लिखी किताबों के नाम


Parliament and Foreign Policy in India, New Delhi

Restructuring Environmental governance in Asia-Ethics and Policy, (Sole editor)

Cultural Diplomacy: Buddhism and India’s Look East Policy[ co-author Dr. Rimli Basu]

Retreat of the State: Implications of Drug Trafficking in Asia [co-author Dr. Rimli Basu]

कई बुकलेट तैयार की

इसके अलावा प्रफेसर पंडित ने कई बुकलेट्स तैयार की हैं। कई किताबों में उनके चैप्‍टर्स हैं। प्रफेसर पंडित ने भारत और दुनिया के राजनीतिक परिदृश्‍यों पर कई रिसर्च पेपर प्रकाशित किए हैं जिनका ब्‍योरा पुणे यूनिवर्सिटी की वेबसाइट पर मौजूद उनके सीवी में है।

Todays Beets: