Friday, September 24, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

अफगान संकट पर अमेरिका ने गिनाई अपनी मजबूरी , कहा - क्या अपने जवानों को मरने देते

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अफगान संकट पर अमेरिका ने गिनाई अपनी मजबूरी , कहा - क्या अपने जवानों को मरने देते

नई दिल्ली । दुनिया भर में इस समय अमेरिकी सरकार की अफगानिस्तान को लेकर बनाई गई नीति पर सवाल उठ रहे हैं । अमेरिका की जो बाइडेन सरकार के फैसलों पर दुनिया की महाशक्ति कहे जाने वाले देश की जमकर किरकिरी हो रही है । दुनिया भर के लोग अमेरिका को अफगानिस्तान के हालातों का जिम्मेदार मान रहे हैं और अपने शब्दों में जो बाइडेन के फैसलों की निंदा भी कर रहे हैं । इससे इतर , अमेरिकी राष्ट्रपति ने भी अपनी मजबूरी गिनाते हुए अफगानिस्तान को लेकर अपनी सरकार के फैसलों को सही ठहराया है । अमेरिका का कहना है कि जब अफानिस्तानी जवानों ने ही तालिबानी लड़ाकों के आगे हथियार डाल दिए तो हम क्यों अपने जवानों को वहां मरने के लिए छोड़ देते । 

अशरफ गनी पर फोड़ा ठिकरा

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने सोमवार देर रात अपने देशवासियों को संबोधित किया । इस दौरान उन्होंने कहा कि हमने पिछले कई सालों में अरबों रुपये अफगानिस्तान पर खर्च किए । लाखों सैनिकों को ट्रेनिंग दी । लेकिन तालिबान से लड़ने से पहले ही राष्ट्रपति अशरफ गनी समेत अफगानी सेना ने अपने हथियार डाल दिए । अगर अमेरिकी सेना वह एक साल या पांच साल वहां रुक जाती तो क्या वहां के हालात बदल जाते । मैंने अशरफ गनी से कहा था कि आप अपने यहां व्याप्त भ्रष्टाचार को खत्म करें , लेकिन गनी को भरोसा था कि आपात स्थिति में उनकी सेना तालिबान का मुकाबला कर लेगी । 

सेना ने कई जगह सरेंडर किया

बाइडेन ने कहा कि ताबिलान ने अफगानी सेना को निशाना बनाना शुरू कर दिया था । ऐसे में अफगानिस्तान की लिडरशिप सामना करने के बजाए भाग गई । तालिबानियों के सामने अफगानी सेना ने हार मान ली । कई इलाकों में सेना ने सरेंडर कर दिया । मैंने अफगानी राष्ट्रपति अशरफ गनी को तालिबान से बात करने का प्रस्ताव दिया था , लेकिन उन्हें भरोसा था कि उनकी सेना तालिबानी लड़ाकों का मुकाबला करेगी । लेकिन वह इसमें फेल हो गए । 

गनी से पूछे - बिना लड़े क्यों भाग गए


जो बाइडेन ने इस दौरान कहा कि यह सवाल अफगानिस्तान के राष्ट्रपति से पूछा जाना चाहिए कि आखिर वह बिना लड़े क्यों भाग गए । समय रहते अफगानिस्तान सरकार ने कोई फैसला क्यों नहीं लिया । उन्होंने सीरिया , इराक और अफ्रीका में आईएस की मौजूदगी का हवाला देते हुए कहा कि सरकार को पूरे मुद्दे पर ध्यान देने की जरूरत थी । हमें अफगानिस्तान के भविष्य के लिए एक दिन यह करना ही था , लेकिन जिस तेजी से हालात बदले , किसी को कुछ करने का मौका नहीं मिला । 

20 सालों तक हमने संभाला

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि पिछले 20 सालों से अफगानिस्तान को हमने संभाला , हमें भी अपने जवानों की चिंता होती है । वहां लोकतंत्र की स्थापना करने के लिए हमारी सेना नहीं गई थी , हम चाहते थे कि अफगानिस्तान की जमीन से आतंकवाद न पनपे , इसलिए इतने सालों तक हम वहां रहे । 

ताबिलान को चेताया

बाइडेन ने इस बीच तालिबान को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उनके लड़ाकों ने किसी भी अमेरिकी नागरिक को परेशान किया तो उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने होंगे । हमने देखा कि मौजूदा समय में लोग अफगानिस्तान छोड़कर भागने को आतुर हैं । हम इस सब से दुखी है , लेकिन मुझे अपने फैसले पर कोई पछतावा नहीं है । 

Todays Beets: