Friday, September 24, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

कपिल सिब्बल की बर्थडे पार्टी में जुटे दिग्गज विपक्षी नेता समेत जी23 के नेता, गांधी परिवार को रखा दूर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कपिल सिब्बल की बर्थडे पार्टी में जुटे दिग्गज विपक्षी नेता समेत जी23 के नेता, गांधी परिवार को रखा दूर

नई दिल्ली । दिल्ली के सियासी गलियारे में सोमवार को एक बर्थडे पार्टी हुई , जिसकी गूंज लंबे समय तक सुनाई दी जा सकती है । असल में जन्मदिन था कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल का , जिनके जन्मदिन पर गांधी परिवार के सदस्यों को छोड़कर विपक्ष के कई नेताओं ने शिरकत की । भूपेंद्र हुड्डा , संजय सिंह , लालू यादव , अखिलेश , उमर अब्दुल्ला समेत विपक्ष के कई दिग्गज नेताओं ने इस बर्थडे पार्टी में पहुंचे । इस दौरान कपिल सिब्बल ने कहा कि हमारी पार्टी के भीतर कितने भी विवाद रहें , लेकिन हमें बाहर बतौर विपक्ष एकजुट होकर रहना है । हालांकि इस बर्थडे पार्टी में विपक्षी नेताओं की शिरकत और इसमें गांधी परिवार के किसी सदस्य के न होने पर अब यह पार्टी सियासी गलियारों में हलचल पैदा कर रही है । असल में पूर्व में कपिल सिब्बल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ मोर्चा खोल चुके हैं। वह जी-23 समूह में शामिल रहे हैं , जिन्होंने कांग्रेस में पार्टी नेतृत्व को बदलने के लिए पत्र लिखा था । इसके बाद उनके कई बयान भी सामने आए थे ।

विदित हो कि दिल्ली में कांग्रेसी नेता कपिल सिब्बल के घर उनके जन्मदिन की पार्टी हुई । इस पार्टी में विपक्ष के कई दिग्गज नेता शामिल हुए । खास बात यह रही कि यह पार्टी ऐसे समय में हुई है जब राहुल गांधी जम्मू कश्मीर के दौरे पर गए हुए हैं , प्रियंका गांधी वाड्रा विदेश दौरे पर हैं और पिछले कुछ समय से सोनिया गांधी अपने स्वास्थ्य को लेकर परेशान है । 

लेकिन इस पार्टी में विपक्षी दलों के दिग्गज नेताओं के पहुंचने से जहां कांग्रेसी नेताओं में उथल पुथल मची हुई है , कई भाजपा में भी सुगबुगाहट तेज हो गई है । 


सिब्बल की इस बर्थडे पार्टी में एनसीपी के शरद पवार, आरजेडी के लालू प्रसाद यादव, समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव, सीपीएम के सीताराम येचूरी, सीपीआई के डी. राजा, नेशनल कांफ्रेंस के उमर अब्दुल्ला शामिल थे, जो राहुल गांधी के नाश्ते से दूर रहे थे. यही नहीं, आम आदमी पार्टी ने राहुल गांधी के आमंत्रण को ठुकरा दिया था पर सिब्बल की डिनर पर आप नेता संजय सिंह भी मौजूद थे ।  G-23 के कई दिग्गज नेता जैसे कि गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, शशि थरूर, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, पृथ्वीराज चव्हाण, मनीष तिवारी सरीखे नेता भी इस पार्टी में शामिल थे ।

कांग्रेस को इस बर्थडे पार्टी में पहुंचने वाले कई नेताओं को लेकर भी अब सोचना होगा , जो पिछले दिनों राहुल गांधी की ब्रेकफास्ट पार्टी में नहीं पहुंचे थे , लेकिन इस बर्थडे डिनर पार्टी में पहुंचे । असल में राहुल गांधी की मीटिंग से विपक्षी दलों के बड़े नेता दूर रहे थे और उन्होंने अपने दल से ऐसे नेताओं को भेजा था जिनका उनके दलों में निर्णायक की कोई भूमिका नहीं होती है।  

बहरहाल , इस बैठक के बाद अब सवाल उठ रहे हैं कि सिब्बल के घर हुई इस बर्थडे डिनर पार्टी में कहीं जी 23 अपने बलबूते को विपक्ष को खड़ा करने की मुहिम में नहीं जुटा है । ऐसे होने पर गांधी परिवार को दरकिनार किया जा सकता है । वहीं यह डिनर पार्टी ऐसे समय में की गई है जब इस तरह कि खबरें हैं कि अगले महीने सोनिया गांधी अपने इलाज के लिए अमेरिका जाने से पहले पार्टी में एक कार्यकारी अध्यक्ष को नियुक्त करेंगी । आम तौर पर जब भी सोनिया गांधी इलाज के लिए अमेरिका जाती हैं तो साथ में राहुल गांधी भी जाते हैं , लेकिन अब पार्टी को इसपर सोचने को मजबूत किया जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी के आंतरिक चुनाव कब करवाए जाएं। 

विदित हो कि जी23 समूह को इस पूरे मामले में सक्रिय होता देखा जा रहा है। लेकिन क्या है यह जी23 एक बार आपको फिर से बता देते हैं । असल में कांग्रेस पार्टी में 23 नेताओं ने पिछले वर्ष अगस्त के महीने में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक पत्र लिखा था, जिसमें पार्टी में अंदरूनी चुनाव कराने की मांग की गयी थी । पत्र में यह भी लिखा गया था कि बीजेपी से लोहा लेने के लिए पार्टी में ऐसे चुने हुए फुलटाइम नेताओं की जरूरत है जो सक्रिय हों और जनता के बीच दिखें भी । इसे गांधी परिवार के खिलाफ विद्रोह माना गया था, क्योंकि सोनिया गांधी बगैर चुनाव के सितम्बर 2019 से कांग्रेस पार्टी की आतंरिक अध्यक्ष हैं और अपनी ख़राब तबियत के कारण वह सक्रिय नहीं रह पाती हैं । जनता के बीच जाना उन्होंने ज़माने पहले छोड़ दिया था, और राहुल गांधी पर आरोप लगता रहा है की वह सिर्फ चुनावों के समय ही सक्रिय दिखते हैं ।

 

Todays Beets: