Sunday, September 27, 2020

Breaking News

   कप्तान धोनी ने IPL2020 की शुरुआत जीत से की,जानिये कैसे ?     ||   लखनऊ: यूपी में आकाशीय बिजली से हुई मौत के मामले में परिजनों को 4 लाख मुआवजा     ||   कोरोना काल में भाजपा सरकार ने अनेक ख्याली पुलाव पकाए, लेकिन एक सच भी था? -राहुल गांधी     ||   पिछले 6 महीने में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं: राज्यसभा में गृह मंत्रालय का बयान     ||   राजस्थान: बूंदी में चंबल नदी में नाव डूबने से 6 लोगों की मौत, 12 लोगों को रेस्क्यू किया गया     ||   मुंबई: बच्चन परिवार को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराएगी मुंबई पुलिस     ||   राज्यसभा में BJP MP विनय सहस्रबुद्धे का बयान, महाराष्ट्र सरकार ही अवैध निर्माण का प्रतीक     ||   ग्रीनलैंड में सबसे बड़ा ग्लेशियर टूटा, चंडीगढ़ के बराबर बर्फ की चट्टान समुद्र में     ||   किसान बिल के विरोध पर बोले नड्डा- कांग्रेस पहले समर्थन में थी, अब राजनीति कर रही     ||   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||

जापान में गरीब किसान का बेटा बना PM , पीएम मोदी की तरह ही बचपन से बहुत संघर्ष किया , जानें खास बातें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जापान में गरीब किसान का बेटा बना PM , पीएम मोदी की तरह ही बचपन से बहुत संघर्ष किया , जानें खास बातें

नई दिल्ली । जापान के पूर्व पीएम शिंजे आबे ने अपनी बीमारी के चलते अपने पद से इस्तीफा दिया , जिसके बाद उनके करीबी और मुख्य कैबिनेट सचिव योशिदे सुगा को देश का नया प्रधानमंत्री चुना गया है । जापानी के नवनिर्वाचित पीएम योशिदे भी भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी की तरह बहुत गरीबी परिवार से देश के प्रधानमंत्री पद तक पहुंचे हैं । पीएम मोदी और जापानी पीएम योशिदे के बीच काफी समानता नजर आती है । उन्होंने अपने बचपन के दिनों में अपना खर्च निकालने के लिए फिश मार्केंट से लेकर कार्ड बोर्ड बनाने वाली फैक्टरी में काम किया है । 

जानें जापानी पीएम योशिदे सुगा का सफरनामा

बता दें कि जापान के एक गरीब किसान परिवार में पैदा हुआ पीएम योशिदे सुगा की कहानी उस देश के लिए एक मिसाल बन गई है । योशोहिदे सुगा एक आम किसान के बेटे हैं, उनके पिता स्ट्रॉबेरी की खेती करते थे। अपने गृहनगर में हाईस्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद वे तोक्यो आ गए। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अपना खर्च चलाने के लिए उन्हें कभी कार्डबोर्ड फैक्ट्री में नौकरी करनी पड़ी तो कभी फिश मार्केट में भी काम करना पड़ा। सुगा काम के साथ ही यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहे थे, यहां नौकरी कर उन्हें खर्चा चलाने में मदद मिल जाती थी।

चुनाव अभियान में काम से शीर्ष तक

जापानी पीएम का चुनाव सफर उस समय तय हुआ जब कॉलेज की पढ़ाई खत्म करने के बाद वह संसदीय चुनाव अभियान के लिए काम करने लगे । हालांकि ग्रैजुएशन करने के बाद सुगा जापान के कॉरपोरेट वर्ल्ड में शामिल हो गए और अच्छी तनख्वाह भी पाने लगे लेकिन यहां उनका मन नहीं लगा और वे राजनीति में चले आए।  बाद में उन्होंने लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के एक सांसद के सेक्रेटरी के रूप में काम किया । इसके बाद उन्होंने ख़ुद के राजनीतिक सफ़र की शुरुआत की । वर्ष 1987 में वे योकोहामा सिटी काउंसिल के लिए चुने गए और 1996 में वे पहली बार जापान की संसद के लिए चुने गए । 


2005 में पलटी तकदीर

वर्ष 2005 में तत्कालीन प्रधानमंत्री जुनिचिरो कोइज़ुमी ने उन्हें आंतरिक मामलों और संचार विभाग का वरिष्ठ उप मंत्री बनाया । असल में नौकरी छोड़ राजनीति में आए सुगा योकोहामा सिटी काउंसिल के लिए चुनाव लड़ने उतर गए। लेकिन सुगा अपने दम पर चुनाव लड़ने उतर पड़े। उन्होंने घर घर जाकर अपने प्रचार अभियान की शुरूआत की । वह एक दिन में करीब 300 घरों में जाते थे । एलडीपी के मुताबिक जबतक चुनाव प्रचार खत्म हुआ वो लगभग 30000 घरों में जा चुके थे। पार्टी के मुताबिक जब चुनाव खत्म हुआ तब तक सुगा 6 जोड़ी जूते पहनकर फाड़ चुके थे।

शिंजे आबे के करीबी 

पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे के साथ उनके अच्छे रिश्ते बने रहे. जब 2012 में आबे फिर से पीएम बने तो उन्होंने सुगा को मुख्य कैबिनेट सेक्रेटरी का प्रभावी पद सौंपा । पिछले आठ साल से शिंजो आबे के दाहिने हाथ माने जाने वाले सुगा सुर्ख़ियों में बने रहे । उन्हें हर दिन दो बार मीडिया ब्रीफ़िंग करनी पड़ती थी ।  यह भी माना जाता था कि जापान की जटिल नौकरशाही का प्रबंधन भी उनके ही ज़िम्मे था । 

Todays Beets: