Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

अब देश में चलेंगी निजी मालगाड़ियां ! रेल मंत्रालय ने कमाई बढ़ाने के लिए बनाई नई योजना 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब देश में चलेंगी निजी मालगाड़ियां ! रेल मंत्रालय ने कमाई बढ़ाने के लिए बनाई नई योजना 

नई दिल्ली । भारतीय रेल में पिछले दिनों कई तरह के बदलाव की खबरें सामने आ रही हैं । निजी यात्री ट्रेनों के साथ प्राइवेट रेलवे स्टेशन की खबरों के बाद अब खबर आ रही है कि सरकार अब निजी मालगाड़ी चलाने की भी योजना बना रही है । असल में सरकार इस सबके पीछे रेलवे की कमाई को बढ़ाने का प्लान बना रही है । मिली जानकारी के अनुसार , रेलवे ने अगले पांच सालों में अपने लक्ष्य 200 करोड़ टन माल लोड करने का रखा है, इसलिए ही सरकार अब मालगाड़ी के संचालन में निजी कंपनियों को शामिल करना चाहती है ।  मिली जानकारी के अनुसार , रेलवे मंत्रालय पिछले दिनों कुछ तरह के बदलाव के बाद अब निजी माल गाड़ी ट्रेनें चलाने की नई नीति बना रहा है । इन ट्रेनों को 2800 किलोमीटर के डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (DFC) पर चलाया जाएगा । मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक , प्राइवेट फ्रेट ट्रेनों के लिए तैयार की जा रही नई पॉलिसी में प्राइवेट प्लेयर या निजी कंपनियों को आकर्षित करने के लिए खास कदम उठाए जा सकते हैं। 

मंत्रालय चाहता है कि इस योजना में टाटा ग्रुप, अडानी ग्रुप, महिंद्रा ग्रुप और मारुति जैसी बड़ी कंपनियां भागीदारी दिखाएं । इसलिए डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर को लेकर सरकार तेजी से काम कर रही है । 


रेलवे का लक्ष्य है कि मार्च 2022 तक पूरे 2800 किलोमीटर के डीएफसी ट्रैक को तैयार कर चालू ऑपरेशनल कर दिया जाए । अगर लंबी अवधि के लिए करार किया जाता है तो ई-कॉमर्स कंपनियां जैसे अमेज़न या फ्लिपकार्ट भी प्राइवेट फ्रेट ट्रेन चलाने के लिए आगे आ सकती हैं ।  

Todays Beets: