Thursday, August 22, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

इनेलो से निष्कासित दुष्यंत मिले भाजपा नेता से, राजनीतिक गलियारों में अटकलें तेज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इनेलो से निष्कासित दुष्यंत मिले भाजपा नेता से, राजनीतिक गलियारों में अटकलें तेज

नई दिल्ली। हरियाणा की राजनीति में एक नया तूफान आ सकता है। इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो)से निष्कासित नेता दुष्यंत चौटाला ने भाजपा नेता और मंत्री राव इंद्रजीत से मुलाकात की है। इस मुलाकात के बाद सियासी गलियारों में अटकलों का बाजार गर्म हो गया है। वहीं दूसरी तरफ अभय चौटाला के बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती से मुलाकात की है। बता दें कि इन मुलाकातों के बाद इनेलो के पदाधिकारी, नेतागण चिंतित हैं वहीं भाजपा भी इन समीकरणों के अलग मायने निकाल रही है।

गौरतलब है कि पार्टी की ओर से अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए ओम प्रकाश चौटाला ने दुष्यंत चौटाला को पार्टी से निष्कासित कर दिया था। वहीं पेरोल पर जेल से बाहर आए उनके बड़े भाई अजय चौटाला भी पूरे आक्रामक दिखाई दे रहे हैं। उधर, देखा जाए तो चौटाला परिवार में अजय सिंह चौटाला और राव इंद्रजीत के बीच वर्षों से पारिवारिक संबंध है। कई बार पार्टी लाइन से हटकर राव इंद्रजीत ओर अजय चौटाला ने खुलकर एक दूसरे की मदद की है।


ये भी पढ़ें - आगामी चुनाव में भाजपा को पटकनी देने के ‘ममता फाॅर्मूला ने दिखाया असर, अन्य राज्यों में हो सकत...

यहां बता दें कि अभय चौटाला इस प्रयास में लगे हुए हैं कि हरियाणा की राजनीति में मचे घमासान के बावजूद बसपा और इनेलो का साथ बना रहे। यदि पार्टी दो फाड़ होती है तो बसपा के लिए भी संकट खड़ा हो जाएगा कि वे मौजूदा हालात में किस तरफ जाए।

Todays Beets: