Thursday, May 23, 2024

Breaking News

   एमसीडी में एल्डरमैन की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका पर SC 8 मई को करेगा सुनवाई     ||   यूक्रेन से युद्ध में दिसंबर से अब तक रूस के 20000 से ज्यादा लड़ाके मारे गए: अमेरिका     ||   IPL: मैच के बाद भिड़ गए थे गौतम गंभीर और विराट कोहली, लगा 100% मैच फी का जुर्माना     ||   पंजाब में 15 जुलाई तक सरकारी कार्यालयों में सुबह 7:30 बजे से दोपहर दो बजे तक होगा काम     ||   गैंगस्टर टिल्लू की लोहे की रोड और सूए से हत्या, गोगी गैंग के 4 बदमाशों ने किया हमला     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 'द केरल स्टोरी' पर बैन लगाने की मांग वाली याचिका पर तुरंत सुनवाई से किया इनकार     ||   नीतीश कटारा हत्याकांड: SC में नियमित पैरोल की मांग करने वाली विशाल यादव की याचिका खारिज     ||   'मैंने सिर्फ इस्तीफा दिया है, बाकी काम करता रहूंगा' नेताओं के मनाने पर बोले शरद पवार     ||   सोनिया गांधी दिल्ली के गंगाराम अस्पताल में भर्ती    ||   कर्नाटक हिजाब केस में SC ने तुरंत सुनवाई से इंकार किया    ||

ऐतिहासिक - यूपी विधानसभा बनी कोर्ट ! भाजपा विधायक की पिटाई मामले में सीओ समेत 6 पुलिसकर्मियों को कारावास की सजा 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ऐतिहासिक - यूपी विधानसभा बनी कोर्ट ! भाजपा विधायक की पिटाई मामले में सीओ समेत 6 पुलिसकर्मियों को कारावास की सजा 

न्यूज डेस्क । MLA Salil Vishnoi Beating Case ।  उत्तर प्रदेश विधानसभा में शुक्रवार के दिन एक ऐतिहासिक नजारा देखने को मिला । एक गंभीर मुद्दे को लेकर विधानसभा ''कोर्ट'' में तब्दील हो गई और 6 पुलिसकर्मियों को 19 साल पुराने भाजपा विधायक सलिल विश्नोई की पिटाई के मामले में 1 दिन कारावास की सजा सुनाई गई । सजा पाने वालों में एक सीओ भी शामिल है । सीओ समेत 6 पुलिसकर्मी विशेषाधिकार हनन के दोषी पाए गए हैं । नियमों के अनुसार , यूपी विधानसभा के इस फैसले को चुनौती नहीं दी जा सकती है , जिसके चलते दोषी करार दिए गए पुलिसकर्मियों को विधानसभा में ही कैदियों के लिए बनी स्पेशल सेल में रखा जाएगा । आज रात 12 बजे तक इन पुलिसकर्मियों को एक बंदी की तरह ही रहना होगा । 

2004 का है पूरा मामला

असल में यूपी विधानसभा में आज जिस मुद्दे पर एक ऐतिहासिक फैसला दिया गया , असल में वह 19 साल पुराना यानी 2004 का है , जिसमें कुछ पुलिसकर्मियों पर भाजपा विधायक सलिल विश्नोई की पिटाई करने का आरोप लगाया गया था । इस मामले में आज सुनवाई हुई । संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना ने 2004 में हुई घटना के लिए जिम्मेदार पुलिसकर्मियों द्वारा किए गए विशेषाधिकार हनन से संबंधित प्रस्ताव रखा था । लगभग 19 साल बाद इन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की गई । 


पुलिसकर्मी विशेषाधिकार हनन के दोषी करार

बता दें कि भाजपा विधायक को पीटने वाले कानपुर के तत्कालीन सीओ अब्दुल समेत 6 पुलिसकर्मियों को विशेषाधिकार हनन का दोषी करार दिया गया । बहरहाल , नियमों के मुताबिक , विधानसभा के इस निर्णय को हाईकोर्ट में भी चुनौती नहीं दी जा सकती । असल में संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना ने यूपी विधानसभा में प्रस्ताव रखा कि एक दिन यानी आज रात 12 बजे तक दोषी पुलिसकर्मियों को कारावास दिया जाए । इसके बाद विधायकों ने ध्वनि मत से इस प्रस्ताव को पारित किया है ।  हालांकि, सपा के विधायक सदन से वॉकआउट कर गए । उनकी गैर-मौजूदगी में ये प्रस्ताव पारित किया गया।

Todays Beets: