Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

सरकारी स्कूलों की तर्ज पर कम छात्र वाले अशासकीय स्कूल भी होंगे बंद, शिक्षकों की नियुक्ति भी सरकार ही करेगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सरकारी स्कूलों की तर्ज पर कम छात्र वाले अशासकीय स्कूल भी होंगे बंद, शिक्षकों की नियुक्ति भी सरकार ही करेगी

देहरादून। राज्य की शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने के लिए सरकार की ओर से लगातार कदम उठाए जा रहे हैं। सरकारी स्कूलों की तर्ज पर अब 10 से कम छात्रों वाले सहायता प्राप्त अशासकीय स्कूल भी बंद किए जाएंगे। इसके साथ ही इन स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति का अधिकार भी सरकार अपने हाथों में लेने जा रही है। गौर करने वाली बात है कि पिछले दिनों इन स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति में बड़े गड़बड़झाले की खबर मिली थी। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने कहा कि सरकार इन विषयों पर गंभीरता से विचार कर रही है।

गौरतलब है कि रुद्रप्रयाग के विधायक भरत सिंह चौधरी ने सरकार से पूछा कि कम छात्र संख्या वाले सरकारी स्कूलों को बंद किया जा रहा है लेकिन यह हाल सरकारी सहायता प्राप्त अशासकीय स्कूलों का भी क्या उन्हें भी बंद किया जाएगा? इसके साथ ही उन्होंने इन स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति का भी मुद्दा उठाया। जवाब में शिक्षा मंत्री ने कहा कि सरकार इस मसले पर गंभीरता से विचार कर रही है। स्कूलों में सफाईकर्मी की नियुक्ति नहीं होने और छात्रों से सफाई कराने के सवाल पर मंत्री सही तरीके से जवाब नहीं दे पाए लेकिन उन्होंने कहा कि छात्रों को श्रमदान के जरिए आसपास की सफाई के लिए जागरूक किया जाता है। 

ये भी पढ़ें - प्रदेश में बिजली की कमी अब होगी दूर, ऊर्जा के क्षेत्र में निवेश करेगा अडानी ग्रुप


यहां बता दें कि यमकेश्वर की विधायक ऋतु खंडूरी ने कहा कि सरकार ने सभी स्कूलों में एनसीईआरटी की किताबांे को लागू तो कर दिया लेकिन अभी तक बच्चों को किताबें मुहैया नहीं कराई गई है। ऐसे में उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। 

 

Todays Beets: