Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

देहरादून ISBT पर बने नये फ्लाईओवर में उद्घाटन के साथ ही नजर आईँ खामियां , वाहन आपस में टकरा रहे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
देहरादून ISBT पर बने नये फ्लाईओवर में उद्घाटन के साथ ही नजर आईँ खामियां , वाहन आपस में टकरा रहे

देहरादून । उत्तराखंड की राजधानी के ISBT पर बना वाईशेप का नए फ्लाईओवर विवादों में घिर गया है । इस फ्लाईओवर के निर्माण के दौरान ही इसके डिजाइन को लेकर खामियां उजागर हो रही थीं, जो इसके उद्घाटन के साथ अब सामने आने लगी हैं। असल में नए फ्लाईओवर को वाहनों के लिए खोलते ही यहां वाहन चालकों को खतरा दिखने लगा है । असल में ISBT के पुराने फ्लाईओवर के जिस भाग पर नया फ्लाईओवर जुड़ रहा है, उसके बड़े हिस्से पर एक लेन को भी आधा कर स्प्रिंग पोस्ट लगाए गए हैं, जो एक लेन को संकरा कर रहे हैं । नए फ्लाईओवर पर वाहनों की आवाजाही शुरू हुई तो चालकों को कई तरह की परेशानियां हुईं । इतना ही नहीं कई बार वाहन आपस में टकराते-टकराते बचे।

इतना ही नहीं पुराने फ्लाईओवर पर स्प्रिंग पोस्ट वाले हिस्से पर जाम की स्थिति भी दिखी । वजह यह कि कम चौड़ाई वाले भाग पर दोनों तरफ के वाहनों के पहुंचने पर उन्हें थोड़ा इंतजार भी करना पड़ रहा है। इस फ्लाई ओवर पर रात के समय स्थिति ज्यादा खतरनाक नजर आ रही है , जब वाहनों की अधिक रफ्तार किसी हादसे का कारण बन सकती है ।

असल में नया फ्लाईओवर वन-वे ट्रैफिक के लिए है, जिसका इस्तेमाल हरिद्वार बाईपास से सहारनपुर की तरफ जाने वाले वाहन कर सकते हैं। लेकिन अब स्थिति यह है कि इस फ्लाईओवर पर उल्टी दिशा यानी देहरादून की तरफ से आने वाले वाहन भी दौड़ते नजर आ रहे हैं, जिसके चलते खतरा और बढ़ गया है । यदि यहां पर स्प्रिंग पोस्ट नहीं होते और तब वाहन उल्टे चलते तो उन्हें मुडऩे के लिए पर्याप्त चौड़ाई मिल जाती, जबकि अब यह पोस्ट काफी आगे तक लगे हैं। जिसके चलते यदि वह उल्टी दिशा में मुड़ते हैं तो कम चौड़ाई होने पर वाहनों के आपस में टकराने का खतरा कई गुना हो गया है। कुल मिलाकर सुरक्षा के नाम पर लोनिवि ने यहां पर जो कुछ भी इंतजाम किए हैं, वह मुसीबत को और बढ़ाते दिख रहे हैं।   


इस सब के बीच फ्लाईओवर की जिस लेन के करीब 20 मीटर हिस्से को सुरक्षा के नाम पर स्प्रिंग पोस्ट लगाकर संकरा किया गया है, वहां के पूरे हिस्से के डिवाइडर पर गहरे निशान बन गए हैं। निशान बता रहे हैं कि चौड़ाई कम होने के चलते वाहन यहां पर रगड़ कर जा रहे हैं।  लोनिवि के कई अधिकारी फ्लाईओवर के उद्घाटन अवसर पर पहुंचे थे, जिन्होंने ये निशान तो देखा, लेकिन सभी ने इस नजरअंदाज कर दिया है ।

लोगों का आरोप है कि सुरक्षा के नाम पर जो भी जतन राष्ट्रीय राजमार्ग खंड, देहरादून के अधिकारियों ने किए हैं, वह तकनीकी रूप से उचित नहीं हैं। यह स्थिति आने वाले समय में किसी बड़ी परेशानी का कारण बन सकती है।

 

Todays Beets: