Tuesday, November 12, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

देहरादून की सुनीता रावत का चयन ' फ्लोरेंस नाइटेंगल पुरस्कार' के लिए , राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद करेंगे सम्मानित

अंग्वाल न्यूज डेस्क
देहरादून की सुनीता रावत का चयन

देहरादून । राजकीय गांधी शताब्दी विज्ञान केंद्र अस्पताल में कार्यरत सिस्टर इंचार्ज एवं वरिष्ठ नर्स सुनीता रावत गोयल का चयन राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटेंगल पुरस्कार के लिए हुआ है। उनका यह चयन उनके द्वारा जन स्वास्थ्य सेवाओं में उल्लेखनीय योगदान के लिए किए गए कार्यों के मद्देनजर हुआ है । आगामी दिसंबर के पहले सप्ताह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उन्हें यह पुरस्कार प्रदान करेंगे। गांधी शताब्दी अस्पताल में नेत्र रोग विभाग एवं महिला विंग की स्थापना में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। वह प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में सेवाएं दे चुकी हैं। उन्होंने अब तक 60 हजार नेत्र रोगियों के ऑपरेशन में सहयोग किया है। 

गांधी शताब्दी अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. बीसी रमोला ने बताया कि सुनीता रावत गांधी शताब्दी अस्पताल के नेत्र रोग विभाग और स्त्री रोग विभाग में अच्छा कार्य करती रही हैं। इससे पहले वह दून अस्पताल में तैनात थीं। पांच साल उन्होंने निजी सेक्टर में सेवाएं दी। सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं में उन्हें 20 साल हो चुके हैं। उनकी देखरेख में अस्पताल में दो हजार शिशुओं का जन्म और लगभग पांच हजार मरीजों के आंखों के ऑपरेशन हो चुके हैं।


इस प्रतिष्ठित पुरस्कार के लिए पहले अस्पताल स्तर पर, फिर मुख्य चिकित्साधिकारी, उसके बाद स्वास्थ्य महानिदेशालय और फिर शासन स्तर पर आवेदनों की छंटनी होती है। उसके बाद राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार के लिए चयन किया जाता है।  

Todays Beets: