Saturday, September 26, 2020

Breaking News

   कप्तान धोनी ने IPL2020 की शुरुआत जीत से की,जानिये कैसे ?     ||   लखनऊ: यूपी में आकाशीय बिजली से हुई मौत के मामले में परिजनों को 4 लाख मुआवजा     ||   कोरोना काल में भाजपा सरकार ने अनेक ख्याली पुलाव पकाए, लेकिन एक सच भी था? -राहुल गांधी     ||   पिछले 6 महीने में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं: राज्यसभा में गृह मंत्रालय का बयान     ||   राजस्थान: बूंदी में चंबल नदी में नाव डूबने से 6 लोगों की मौत, 12 लोगों को रेस्क्यू किया गया     ||   मुंबई: बच्चन परिवार को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराएगी मुंबई पुलिस     ||   राज्यसभा में BJP MP विनय सहस्रबुद्धे का बयान, महाराष्ट्र सरकार ही अवैध निर्माण का प्रतीक     ||   ग्रीनलैंड में सबसे बड़ा ग्लेशियर टूटा, चंडीगढ़ के बराबर बर्फ की चट्टान समुद्र में     ||   किसान बिल के विरोध पर बोले नड्डा- कांग्रेस पहले समर्थन में थी, अब राजनीति कर रही     ||   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||

दिल्ली पुलिस ने प्रदूषण फैलाने वाली उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों के काटे चालान , पढ़ें क्या है मामला 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली पुलिस ने प्रदूषण फैलाने वाली उत्तराखंड परिवहन निगम की बसों के काटे चालान , पढ़ें क्या है मामला 

देहरादून । भले ही केंद्र की मोदी सरकार ने देश में प्रदूषण प्रमाण पत्र को लेकर कड़े जुर्माने का प्रावधान कर दिया हो लेकिन उत्तराखंड सरकार और संबंधित विभाग इस मुद्दे पर सजग नहीं हैं । मिली जानकारी के मुताबिक , उत्तराखंड राज्य परिवहन निगम की बसें की समय रहते सर्विस नहीं होने के चलते वह प्रदूषण का बड़ा कारण बन गई हैं । भले ही राज्य की सरकार को संबंधित विभाग इस बारे में ज्यादा सजग न हों , लेकिन दिल्ली पुलिस ने राज्य सरकार , परिवहन निगम संबंधी  संबंधित विभाग को आईना दिखाया है । इस कड़ी में दिल्ली पुलिस ने उत्तराखंड रोडवेज की (रुद्रपुर और ऋषिकेश डिपो )  की दो बसों का 1-1 लाख रुपये का चालान काटा है । इतना ही दिल्ली पुलिस ने दोनों बसों को सीज भी कर दिया है । दिल्ली पुलिस का कहना है कि उत्तराखंड राज्य परिवहन निगम की बसें बिना प्रदूषण जांच के राज्य और अन्य प्रदेशों में दौड़ रही हैं। 

बता दें कि उत्तराखंड परिवहन निगम के लिए दिल्ली रूट सबसे लाभकारी रूट माना जाता है । जानकारी के मुताबिक प्रदेश के विभिन्न कोनों से प्रतिदिन दिल्ली की ओर करीब 550 बसें भेजी जाती हैं जो लौटकर वापस अपने शहर भी आती हैं । 

इस समय दिल्ली-एनसीआर समेत देश के कई हिस्सों में बढ़ते प्रदूषण के स्तर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कड़ा रुख अख्तियार किया हुआ है । सुप्रीम कोर्ट की ओर से कई बार राज्य सरकारों को प्रदूषण के बढ़ते स्तर पर लगाम करने की हिदायत दी है । बावजूद इसके सरकारें उदासीन नजर आ रही हैं । दिल्ली में तो ऐसी स्थिति से निपटने के लिए दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति बनाई गई है। 


असल में यह कमेटी पुलिस के साथ मिलकर प्रदूषण फैलाने वाली बसों और अन्य वाहनों के चालान काटने के साथ ही उन्हें जब्त भी कर रही है । जानकारी के अनुसार , उत्तराखंड परिवहन निगम की करीब 550 बसें प्रतिदिन दिल्ली आती हैं । इनमें पुरानी और आयु सीमा पूरी कर चुकी बसें भी शामिल हैं । समय रहते इनकी सर्विस न होने और अपनी आयुसीमा पूरी कर चुकी बसें प्रदूषण फैलाने की भी जिम्मेदार हैं। 

हालांकि दिल्ली आने वाले ऐसे वाहनों पर दिल्ली पुलिस और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति नजर जमाए रहती है । ऐसी ही दो बसों का 1-1 लाख रुपये का चालान काटा गया है ।  इन्हीं में एक रुद्रपुर डिपो की साधारण बस (यूके07पीए-1488) का सोमवार को आनंद विहार में दिल्ली पुलिस ने एक लाख का चालान कर सीज किया। वहीं, इससे दो दिन पूर्व शनिवार को भी ऋषिकेश डिपो की बस (यूके07पीए-1952) का एक लाख का चालान कर सीज किया गया था। जिन दो बसों को सीज किया गया, उनमें प्रदूषण जांच प्रमाण पत्र थे या नहीं, इस पर संशय है। निगम मुख्यालय का दावा है कि दोनों बसों में वैध प्रमाण पत्र थे, मगर सूत्रों की मानें तो चेकिंग के दौरान बसों में ऐसा कोई प्रमाण पत्र नहीं था। कर्मचारी संगठनों की मानें तो अगर बसों में प्रमाण पत्र मौजूद थे तो चालान कैसे कट गया। 

Todays Beets: