Thursday, August 22, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए हुए बंद, गद्दीस्थल में कर सकेंगे दर्शन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केदारनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए हुए बंद, गद्दीस्थल में कर सकेंगे दर्शन

देहरादून। उत्तराखंड स्थित भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट शुक्रवार को सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। बद्री-केदार मंदिर समिति की ओर से पहले ही पूरी तैयारियां कर ली गई थीं। कपाट बंद होने के बाद भगवान की चल विग्रह उत्सव डोली शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ के लिए प्रस्थान कर चुकी है और रात्रि प्रवास के लिए रामपुर पहुंचेगी। 11 नवंबर को यह डोली अपने शीतकालीन पूजा स्थल में विराजमान होगी। 

गौरतलब है कि भगवान केदारनाथ को 11वां ज्योर्तिलिंग माना गया है। भाई-दूज के मौके पर केदारनाथ मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए जाते हैं। बताया जा रहा है कि सुबह 4 बजे से ही मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना शुरू कर दी गई थी। पूजा के बाद स्वयंभू ज्योतिर्लिंग को समाधि रुप देते हुए विशेष पूजा के साथ लिंग को भष्म से ढक दिया गया। 

ये भी पढ़ें - बाबा केदार के दर्शन करने उत्तराखंड पहुंचे पीएम, पूजा-अर्चना के बाद हर्षिल के लिए होंगे रवाना


बता दें कि परंपरा के अनुसार भगवान को भोग लगाने के बाद बाबा केदार की मूर्ति को मंदिर परिसर में भक्तों के दर्शन के लिए रखा गया। सभी धार्मिक औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद मंदिर की चाबी प्रशासन और बद्री-केदार मंदिर समिति के अधिकारियों की मौजूदगी में उपजिलाधिकारी ऊखीमठ गोपाल सिंह चैहान को सौंप दी गई।  

Todays Beets: