Monday, July 22, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

हल्द्वानी के हंसपुर खत्ता में अवैध हथियार फैक्ट्री का खुलासा, खूफिया एजेंसी हुई सतर्क

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हल्द्वानी के हंसपुर खत्ता में अवैध हथियार फैक्ट्री का खुलासा, खूफिया एजेंसी हुई सतर्क

हल्द्वानी। ऐसा लगता है उत्तराखंड के जंगल और पहाड़ अवैध हथियार के तस्करों का अड्डा बनता जा रहा है। हल्द्वानी के हंसपुर खत्ता में अवैध हथियार बनाने की फैक्ट्री का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। इसके बार खूफिया एजेंसी भी काफी सक्रिय हो गई है। खूफिया एजेंसी का मानना है कि माओवादी प्रदेश में अपनी पकड़ बनाने और अशांति फैलाने के लिए पहाड़ों का रुख कर रहे हैं। पुलिस द्वारा लगाए गए ट्रैपिंग कैमरे में एक तस्कर की तस्वीर आने के बाद डीआईजी ने रुद्रपुर पुलिस को जंगलों में तलाशी अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं। 

 

गौरतलब है कि हल्द्वानी वन प्रभाग के डीएफओ ने पिछले दिनों पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर जंगल से हथियार बनाने वाले ब्लेड और नाल के साथ कई उपकरणों को बरामद किया था। जौलासाल में दो साल में दूसरी बार हथियार बनाने के उपकरण पकड़ने के बाद अधिकारी सतर्क हो गए हैं। पुलिस माओवादी गतिविधियों पर फिर नजर रखने का दावा कर रही है।


ये भी पढ़ें - सहस्त्रधारा के फर्नीचर गोदाम में लगी भीषण आग, घंटों मशक्कत के बाद आग पर पाया गया काबू

आपको बता दें कि पुलिस ने इससे पहले एक बड़े माओवादी नेता को गिरफ्तार किया था इसके बाद पुलिस अधिकारियों को उम्मीद थी कि उत्तराखंड में माओवादियों के आका खीम सिंह बोरा को गिरफ्तार कर लिया जाएगा लेकिन 6 महीने के बाद भी खीम सिंह और उसके साथी भास्कर पांडे का भी पता नहीं चल सका। बता दें कि पुलिस ने फरार भास्कर पांडे  को गिरफ्तार करने के लिए 5 हजार रुपये का इनाम घोषित कर रखा है। खीम सिंह बोरा पर 2004 से 50 हजार का इनाम है। पुलिस को जांच से पता चला कि जेल में बंद देवेंद्र माओवादियों के ईस्टर्न रीजनल ग्रुप का सदस्य है।  हर सदस्य और पदाधिकारी को कोरियर के माध्यम से पैसे मिलते हैं। 

Todays Beets: