Tuesday, November 12, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

उत्तराखंड सरकार का बड़ा ऐलान - पहाड़ों पर आयुष इंडस्ट्री लगाओ डेढ़ करोड़ तक की सब्सिडी पाओ, मिलेंगी ये सुविधाएं भी

अंग्वाल संवाददाता
उत्तराखंड सरकार का बड़ा ऐलान - पहाड़ों पर आयुष इंडस्ट्री लगाओ डेढ़ करोड़ तक की सब्सिडी पाओ, मिलेंगी ये सुविधाएं भी

देहरादून । उत्तराखंड में आयुष इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए राज्य की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है । असल में पहाड़ों में आयुष इंडस्ट्री लगाने वालों और औद्योगिक विकास योजना और एमएसएमई नीति के तहत इस क्षेत्र में निवेश करने वालों को सरकार की तरफ से जहां वित्तीय प्रोत्साहन दिया जाएगा , वहीं राज्य का आयुष विभाग निवेशकों को अधिकतम डेढ़ करोड़ तक की अतिरिक्त सब्सिडी भी देगा। सरकार का माना है कि उनकी इन कोशिशों के चलते राज्य की आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को एक पहचान मिलेगी।

विदित हो कि रावत सरकार ने राज्य में MSME के तहत क्षेत्र में निवेश करने वालों को 4 श्रेणियों में बांटा है । इन श्रेणियों  के हिसाब से मशीनरी लगाने के लिए अनुदान राशि व ब्याज दरों में छूट का प्रावधान है । इनमें से ‘ए’ श्रेणी के जिलों में छोटे उद्योग लगाने पर मशीनरी के लिए 40 प्रतिशत सब्सिडी और ब्याज दर में 10 प्रतिशत तक की छूट है । वहीं ‘बी’ श्रेणी में 35 प्रतिशत, ‘सी’ श्रेणी में 25 प्रतिशत और ‘डी’ श्रेणी में 15 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी।

इसमें A श्रेणी में पिथौरागढ़, उत्तरकाशी, चमोली, चंपावत, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर जिले को रखा गया है । वहीं B श्रेणी में पौड़ी गढ़वाल, टिहरी, नैनीताल, देहरादून जिला के पर्वतीय विकासखंड को रखा गया है । इसी बीच एक B प्लस श्रेणी भी रखी गई है , जिसमें पौड़ी जिला के कोटद्वार, सिगड्डी, टिहरी के ढालवाला, मुनी की रेती, तपोवन नैनीताल का कोटाबाग व देहरादून का कालसी ब्लाक रखा गया है । इसी क्रम में C श्रेणी में रायपुर, सहसपुर, विकासनगर, डोईवाला, रामनगर व हल्द्वानी विकासखंड है । वहीं D श्रेणी में हरिद्वार, ऊधमसिंह नगर जिला, देहरादून व नैनीताल जिला को रखा गया है। 


मिली जानकारी के अनुसार , उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार राज्य के पर्वतीय क्षेत्र में आयुष सेक्टर में निवेश की संभावनाओं को देखते हुए वेलनेस सेंटर, पंचकर्मा, आयुष फार्मास्युटिकल पर ध्यान केंद्रित कर रही है । सरकार ने इस सब के नजर अपनी आयुष नीति बनाई है । इस नीति के तहत पहाड़ों में वेलनेस सेंटर, रिजार्ट, फार्मास्युटिकल और पंचकर्मा में निवेश करने पर निवेशकों को अतिरिक्त सब्सिडी दी जाएगी।

इस बारे में विभागीय अधिकारियों का कहना है कि पिछले दिनों देहरादून में हुए इनवेस्टर्स समिट में आयुष सेक्टर को लेकर 1751 करोड़ के निवेश प्रस्ताव पर एमओयू हस्ताक्षर हुए थे। लेकिन अभी तक इसमें से सिर्फ 250 करोड़ के निवेश को लेकर ही गतिविधियाएं सक्रिय हुई हैं । इसके तहत राज्य के मसूरी और रामनगर में वेलनेस रिजार्ट बनाए जा रहे हैं। 

Todays Beets: