Thursday, April 22, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

उत्तराखंड की झांकी में हिंदी गीत सुनकर उदास हुए देवभूमि के लोग , केदारनाथ पर लोकगायकों की न धुन न गीत

अंग्वाल न्यूज डेस्क
उत्तराखंड की झांकी में हिंदी गीत सुनकर उदास हुए देवभूमि के लोग , केदारनाथ पर लोकगायकों की न धुन न गीत

देहरादून । दिल्ली के राजपथ पर मंगलवार को 72वें गणतंत्र दिवस की परेड में उत्तराखंड की झांकी भी दिखाई गई । केदारनाथ पर केंद्रित इस झांकी को बहुत सुंदर तरीके से सजाया गया था , जिसमें देवभूमि के इस धाम की महिमा को वर्णित किया गया था । राजपथ पर जैसे ही उत्तराखंड की झांकी आई , राजपथ पर बैठ , उत्तराखंडवाली और टीवी पर इस झांकी को देख रहे दर्शक उत्साहित हुए , लेकिन जैसे ही उन्होंने झांकी के साथ बजा हिंदी गीत सुना , दर्शक उदास हो गए । उन्हें उम्मीद थी कि उत्तराखंड की इस झांकी के साथ , स्थानीय लोक गायकों द्वारा गाया गया , कोई गीत या उत्तराखंड की कोई पहाड़ी धुन सुनने को मिलेगी , लेकिन बॉलीवुड गायक कैलाश खेर के भगवान शिव को लेकर गाए एक गाने को इस झांकी के साथ बजाया गया । 

बता दें कि 72वें गणतंत्र दिवस पर इस साल फिर से उत्तराखंड की झांकी को राजपथ पर मौका मिला था । अमूमन उस झांकी के माध्यम से उस राज्य की कला संस्कृति को देश दुनिया के सामने रखने का मौका मिलता है । राजपथ पर जिन राज्यों की झांकी पेश हुई , उनके स्थानीय गीत संगीत के जरिए उस झांकी को प्रदर्शित किया गया । लेकिन उत्तराखंड की झांकी में हिंदी गीत सुनकर दर्शक थोड़ा उदास जरूर हुए । 

इस झांकी में केदारनाथ धाम को प्रदर्शित किया गया , साथ ही उसकी महीमा का उल्लेख किया , लेकिन कैलाश खेर द्वारा गाया गीत ....जय जय शिव शंभु जय जय केदारा....बजाया गया । 


जबकि उत्तराखंड के कई लोकगायकों द्वारा केदारनाथ पर कई गीत गाए गए हैं । बहरहाल , लोगों ने इस रुख पर थोड़ी नाराजगी भी जताई । 

हालांकि सरकार के इस रुख पर कुछ लोगों ने तंज कसते हुए कहा कि जब उत्तराखंड के लोग अपनी बोली- बोलने में ही कतराते हैं , तो यह भी सही था कि हमारी झांकी में हिंदी गीत ही बजाया जाए । 

Todays Beets: