Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

पर्यटकों के लिए 1 जून से खुल रही है फूलों की घाटी , 6 ट्रैप कैमरों से रखी जाएगी तस्करों पर नजर

अंग्वाल संवाददाता
पर्यटकों के लिए 1 जून से खुल रही है फूलों की घाटी , 6 ट्रैप कैमरों से रखी जाएगी तस्करों पर नजर

देहरादून । विश्व धरोहर फूलों की घाटी देखने के इच्छुक पर्यटकों के लिए एक अच्छी खबर है । घाटी को आगामी 1 जून से पर्यटकों के लिए खोल दिया जाएगा । हालांकि इस बार वन विभाग ने फूलों की घाटी में ट्रैप कैमरों के जरिए वन जीव तस्करों पर नजर रखने की योजना बनाई है । इतना ही नहीं इन 6 ट्रैप कैमरों से घाटी में मौजूद दुर्लभ प्रजाति के जीवों पर भी नजर रखी जा सकेगी । इसके साथ ही फूलों की घाटी में वन्य जीव तस्करी को लेकर विभाग सतर्क हो गया है।

उत्तराखंड में 160 जगहों पर जंगल धधक रहे , अब तक 1840 हेक्टेयर क्षेत्र में वन संपदा को भारी क्षति

फूलों की घाटी के वन क्षेत्राधिकारी बृजमोहन भारती ने बताया कि इन दिनों घाटी में 2 फीट बर्फ जमी है। इस दौरान घाटी में दुर्लभ प्रजाति के जीव दिखाई देते हैं, जिससे वन्य जीव तस्करों का खतरा बढ़ जाता है। इन तस्करों पर नजर रखने के लिए नियमित गश्त के साथ घाटी में 6 ट्रैप कैमरे भी लगाए गए हैं। इन कैमरों की बराबर मॉनीटरिंग की जाएगी।

सरकारें अब भी न जागीं तो केदारनाथ से भी बड़ी प्राकृति त्रासदी झेलनी पड़ेगी - चंडी प्रसाद भट्ट


वहीं इस बार फूलों की घाटी जाने के लिए पर्यटकों की संख्या निर्धारित की जाएगी। वन विभाग की अनुमति के बाद ही पर्यटक घाटी की यात्रा कर सकेंगे। इकोलॉजी सेंसिटिव जोन होने के कारण एक समय में कितने पर्यटक जाएंगे, इनकी संख्या भी वन विभाग ही तय करेगा। पर्यटन विभाग की ओर से फूलों की घाटी जाने वाले पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए स्थानीय प्रशासन को निर्देश जारी किए गए हैं।  

 

 

Todays Beets: