Wednesday, September 19, 2018

Breaking News

   ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के पूर्व जीएम के ठिकानों पर आयकर के छापे     ||   बिहार: पूर्व मंत्री मदन मोहन झा बनाए गए प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष। सांसद अखिलेश सिंह बनाए गए अभियान समिति के अध्यक्ष। कौकब कादिरी समेत चार बनाए गए कार्यकारी अध्यक्ष।     ||   कर्नाटक के मंत्री शिवकुमार के खिलाफ ED ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया    ||   सीतापुर में श्रद्धालुओें से भरी बस खाई में पलटी 26 घायल, 5 की हालत गंभीर     ||   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||

भारत में बनेंगे मौसम के अनुकूल वाले हेलमेट, सुरक्षा के साथ सुविधा पर रहेगी नजर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारत में बनेंगे मौसम के अनुकूल वाले हेलमेट, सुरक्षा के साथ सुविधा पर रहेगी नजर

नई दिल्ली। भारत में हेलमेट केवल सुरक्षा के लिहाज से ही तैयार किए जाते रहे हैं लेकिन अब हेलमेट को मौसम के अनुसार भी बनाए जाने की तैयारी चल रही है। नए तरह के हेलमेटों के निर्माण के लिए कई कंपनियों ने भी अपनी मंजूरी दे दी है। दरअसल भारत में पहने जाने वाले हेलमेट पश्चिम देशों की तर्ज पर बने हुए हैं। इसलिए इसे हर मौसम में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता । इतना ही नहीं भारतीय मौसम के अनुसार, न तो ये गर्मी में लोगों को बचाने में सहायक सिद्ध होते हैं और न ही सर्दी में बचाने के लिए। इन सब असुविधाओं को दूर करने कें लिए लिहाज से अब भूतल परिवहन एंव राजमार्ग मंत्रालय व भारतीय मानक ब्यूरो ने नए तरीके के हेलमेट तैयार करने की कवायद तेज की है। 

बता दें कि भारत में आज भी अधिकांश लोग हेलमेट सुरक्षा के लिहाज से नहीं बल्कि ट्रैफिक चालान से बचने के लिए पहनते हैं। ऐसे में लोगों की सुरक्षा और मौसम के अनुसार नए हेलमेट का डिजाइन भूतल परिवहन एंव राजमार्ग मंत्रालय व भारतीय मानक ब्यूरो ने तैयार कि है। 200 से ज्यादा कंपनियों को बीआईएस ने नए तर्ज के हेलमेट बनाने की मंजूरी दे दी है।

ये भी पढ़े-नहीं थम रही माॅब लिंचिंग की घटनाएं, बिहार के नालंदा में भीड़ ने की युवक की पिटाई

मंत्रालय द्वारा कराई गई रिसर्च में कई तरह की बातें सामने आई हैं। पश्चिमी देशों में हाई स्पीड बाइकों को चलाने वाले चालकों की सुरक्षा के मद्देनजर खास हेलमेट का निर्माण किया जाता है। लेकिन उस तकनीक के हेलमेट हमारे देश के लोगों के लिए अनुकूल नहीं है। इतना ही नहीं अधिकांश लोगों द्वारा अभी तक इस्तेमाल में लाए जा रहे असुविधाजनक हैं। बाइक चलाते समय पर्याप्त हवा न आने से उन्हें घुटन महसूस होती है। इसके साथ ही, हेलमेट का अधिक वजन होना, गर्मी और सर्दी के मौसम में लोगों को राहत न देने के साथ ही पीछे से आ रहे वाहनों के हॉर्न भी कम सुनाई देने जैसी समस्याएं इन हेलमेट को पहनने के दौरान आती हैं।


ये भी पढ़े-अब बंगाल में कांग्रेस के आगे विकराल संकट, राहुल गांधी गठबंधन के लिए एकराय बनाने की जुगत में जुटे

गौरतलब है कि नए हेलमेट स्थानीय परिस्थतियों को ध्यान में रखकर तैयार किए जा रहे हैं। इसे पहनने वालों का धूल-मिट्टी से बचाव, पसीना की परेशानी से बचाने के साथ ही भारतीय सड़कों व दुपहिया वाहनों की रफ्तार, आदि बातों को ध्यान में रखकर तैयार किया जा रहा है। नए हेलमेट की कीमत औसतन 800 रुपये रहेगी। 

 

Todays Beets: