Thursday, January 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र के ‘रौरी’ गांव ने किया चुनाव बहिष्कार का ऐलान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र के ‘रौरी’ गांव ने किया चुनाव बहिष्कार का ऐलान

शिमला। हिमाचल प्रदेश में मतदान 9 नवंबर को होने वाले हैं। इसे लेकर पार्टियों ने अपनी रणनीति बनानी शुरू कर दी है लेकिन राज्य के मौजूदा मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के विधानसभा क्षेत्र ‘अर्की’ में पड़ने वाले रौरी गांव ने अधिकारियों और राजनीतिक पार्टी को इस बात की चेतावनी दी है कि अगर उनके गांव को प्रदूषण मुक्त जगह पर शिफ्ट नहीं किया गया तो वे चुनाव का बहिष्कार करेंगे। इस बात को लेकर दोनों प्रमुख पार्टियों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

सीमेंट फैक्ट्री बनी परेशानी की वजह

गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश में चुनाव के लिए मतदान होने में अब ज्यादा समय नहीं बचा है ऐसे में मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र में पड़ने वाले गांव रौरी के करीब 500 लोगों के द्वारा चुनाव बहिष्कार का निर्णय ने उनकी पेशानी पर बल डाल दिया है। रौरी गांव के लोगों की मांग है कि उनके गांव को प्रदूषण मुक्त जगह पर शिफ्ट किया जाए। उनका कहना है कि दारलाघाट में अंबुजा सीमेंट की फैक्ट्री लगने से पहले वे भी अच्छी जिन्दगी जी रहे थे।


ये भी पढ़ें - आरुषि-हेमराज कांड में आया नया मोड़, एक बार फिर से खुलेगी इस मर्डर मिस्ट्री की सभी फाइलें

सांस और चर्मरोग से पीड़ित

आपको बता दें कि सीमेंट की फैक्ट्री लगने से गांव के ज्यादातर लोग सांस की  और चर्मरोगों की बीमारी से ग्रस्त हो गए हैं। गांववालों का आरोप है कि बड़ी संख्या में बच्चे, खासकर बुजुर्ग और गर्भवती महिलाओं को फैक्ट्री से निकलने वाले धुएं और धूल से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। फैक्ट्री में होने वाले शोर से लोगों को रात-रात भर जागना पड़ता है। अब उनका कहना है कि अगर उनकी मांग नहीं मानी जाएगी तो चुनाव का बहिष्कार करेंगे। बता दें कि दारलाघाट की सीमेंट फैक्ट्री से राज्य सरकार को बड़ी मात्रा में राजस्व की प्राप्ति होती है।    

Todays Beets: