Friday, June 22, 2018

Breaking News

   उत्तर भारत में धूल: चंडीगढ़ में सुबह 11 बजे अंधेरा छाया, 26 उड़ानें रद्द; दिल्ली में भी धूल कायम     ||   टेस्ट में भारत की सबसे बड़ी जीत: अफगानिस्तान को एक दिन में 2 बार ऑलआउट किया, डेब्यू टेस्ट 2 दिन में खत्म     ||   पेशावर स्कूल हमले का मास्टरमाइंड और मलाला पर गोली चलवाने वाला आतंकी फजलुल्लाह मारा गया: रिपोर्ट     ||   कानपुर जहरीली शराब मामले में 5अधिकारी निलंबित     ||   अब जल्द ही बिना नेटवर्क भी कर सकेंगे कॉल, बस Wi-Fi की होगी जरुरत     ||   मौलाना मदनी ने भी की एएमयू से जिन्‍ना की तस्‍वीर हटाने की वकालत     ||   भारत-चीन सेना के बीच हॉटलाइन की तैयारी, LoC पर तनाव होगा दूर     ||   कसौली में धारा 144 लागू, आरोपित पुलिस की गिरफ्त से बाहर     ||   स्कूली बच्चों पर पत्थरबाजी से भड़के उमर अब्दुल्ला, कहा- ये गुंडों जैसी हरकत     ||   थर्ड फ्रंट: ममता, कनिमोझी....और अब केसीआर की एसपी चीफ अखिलेश यादव के साथ बैठक     ||

जम्मू—कश्मीर में घटीं पत्थरबाजी की घटनाएं, पिछले साल के मुकाबले इस साल आधी हुई घटनाएं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जम्मू—कश्मीर में घटीं पत्थरबाजी की घटनाएं, पिछले साल के मुकाबले इस साल आधी हुई घटनाएं

श्रीनगर।

जम्मू—कश्मीर में पत्थरबाजों पर लगाम लगाने की सुरक्षाबलों की मुहिम सफल हो रही है। आंकड़ों के अनुसार घाटी में पिछले साल के मुकाबले इस साल पत्थरबाजी की घटनाएं आधे से भी कम हुई हैं। सीआरपीएफ के डीजी राजीव भटनागर ने कहा कि हमारी नई रणनीति के तहत जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाएं साल 2016 की मुकाबले घटी हैं। इस साल पत्थरबाजी की 424 घटनाएं हुई हैं, जबकि पिछले साल इसी अवधि में पत्थरबाजी की 1590 घटनाएं हुई थीं।

ये भी पढ़ें— छठवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने ​नीतीश कुमार, राज्य में फिर बनी जदयू—भाजपा की सरकार

भटनागर ने कहा कि जम्मू—कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाएं कम होने के पीछे कई कारण अहम रहे हैं। नए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर, भीड़ से निपटने की नई रणनीति, एनआईए जैसी संस्थाओं की ओर से की गई कार्रवाई और सुरक्षा बलों की ओर से किए गए ज्वाइंट ऑपरेशन जैसे कदम कारगर साबित हुए हैं। जम्मू और कश्मीर में अलगाववादियों पर हुई कार्रवाई से भी हिंसा की घटनाओं पर लगाम लगाने में मदद मिली है। अकेले सीआरपीएफ ने  इस साल जम्मू-कश्मीर में 75 आतंकवादियों को मार गिराया है, जबकि 252 को गिरफ्तार किया गया है जिनसे कई हथियार बरामद किए गए हैं। सीआरपीएफ ने ऑपरेशनों के दौरान हिंसक भीड़ पर भी काबू रखने में कामयाबी हासिल की है।


ये भी पढ़ें— मैं पहले राम भक्त हूं फिर किसी राज्य का मुख्यमंत्री - योगी आदित्यनाथ

सीआरपीएफ डीजी ने कहा कि घायल हुए कर्मियों की संख्या भी पिछले वर्ष की तुलना में एक तिहाई हुई है। भटनागर ने कहा कि घाटी में आतंकवादी घटनाओं में भी कमी आई है और अमरनाथ यात्रा के बाकी हिस्से तक सुरक्षा अभ्यास में कुछ बदलाव आए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कम घातक हथियारों जैसे पैलेट गन के इस्तेमाल से जवान और भीड़ कम ही घायल हुई है।

 

 

Todays Beets: