Friday, October 20, 2017

Breaking News

   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||

जम्मू—कश्मीर में घटीं पत्थरबाजी की घटनाएं, पिछले साल के मुकाबले इस साल आधी हुई घटनाएं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जम्मू—कश्मीर में घटीं पत्थरबाजी की घटनाएं, पिछले साल के मुकाबले इस साल आधी हुई घटनाएं

श्रीनगर।

जम्मू—कश्मीर में पत्थरबाजों पर लगाम लगाने की सुरक्षाबलों की मुहिम सफल हो रही है। आंकड़ों के अनुसार घाटी में पिछले साल के मुकाबले इस साल पत्थरबाजी की घटनाएं आधे से भी कम हुई हैं। सीआरपीएफ के डीजी राजीव भटनागर ने कहा कि हमारी नई रणनीति के तहत जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाएं साल 2016 की मुकाबले घटी हैं। इस साल पत्थरबाजी की 424 घटनाएं हुई हैं, जबकि पिछले साल इसी अवधि में पत्थरबाजी की 1590 घटनाएं हुई थीं।

ये भी पढ़ें— छठवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बने ​नीतीश कुमार, राज्य में फिर बनी जदयू—भाजपा की सरकार

भटनागर ने कहा कि जम्मू—कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाएं कम होने के पीछे कई कारण अहम रहे हैं। नए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर, भीड़ से निपटने की नई रणनीति, एनआईए जैसी संस्थाओं की ओर से की गई कार्रवाई और सुरक्षा बलों की ओर से किए गए ज्वाइंट ऑपरेशन जैसे कदम कारगर साबित हुए हैं। जम्मू और कश्मीर में अलगाववादियों पर हुई कार्रवाई से भी हिंसा की घटनाओं पर लगाम लगाने में मदद मिली है। अकेले सीआरपीएफ ने  इस साल जम्मू-कश्मीर में 75 आतंकवादियों को मार गिराया है, जबकि 252 को गिरफ्तार किया गया है जिनसे कई हथियार बरामद किए गए हैं। सीआरपीएफ ने ऑपरेशनों के दौरान हिंसक भीड़ पर भी काबू रखने में कामयाबी हासिल की है।


ये भी पढ़ें— मैं पहले राम भक्त हूं फिर किसी राज्य का मुख्यमंत्री - योगी आदित्यनाथ

सीआरपीएफ डीजी ने कहा कि घायल हुए कर्मियों की संख्या भी पिछले वर्ष की तुलना में एक तिहाई हुई है। भटनागर ने कहा कि घाटी में आतंकवादी घटनाओं में भी कमी आई है और अमरनाथ यात्रा के बाकी हिस्से तक सुरक्षा अभ्यास में कुछ बदलाव आए हैं। उन्होंने यह भी कहा कि कम घातक हथियारों जैसे पैलेट गन के इस्तेमाल से जवान और भीड़ कम ही घायल हुई है।

 

 

Todays Beets: