Monday, September 25, 2017

Breaking News

   जम्मू कश्मीर के नौगाम में लश्कर कमांडर अबू इस्माइल के साथ मुठभेड़,     ||   राम रहीम मामले पर गौतम का गंभीर प्रहार, कहा- धार्मिक मार्केटिंग का यह एक क्लासिक उदाहरण    ||   ट्राई ने ओवरचार्जिंग के लिए आइडिया पर लगाया 2.9 करोड़ का जुर्माना    ||   मदरसों का 15 अगस्त को ही वीडियोग्राफी क्यों? याचिका दायर, सुनवाई अगले सप्ताह    ||   पंचकूला से लंदन तक दिखा राम-रहीम विवाद का असर, ब्रिटेन ने जारी की एडवाइजरी    ||   PAK कोर्ट ने हिंदू लड़की को मुस्लिम पति के साथ रहने की मंजूरी दी    ||   बिहार आए पीएम मोदी, बाढ़ से हुई तबाही की गहन समीक्षा की    ||   जेल में ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए राम रहीम को सुनाई जाएगी सजा    ||   मच्छल में घुसपैठ नाकाम, पांच आतंकी ढेर, भारी मात्रा में गोलाबारूद बरामद    ||   जापान के बाद अब अमेरिका के साथ युद्धाभ्यास की तैयारी में भारत    ||

दून-ऋषिकेश के बीच सीधी रेल लाइन कब ?

दून-ऋषिकेश के बीच सीधी रेल लाइन कब ?
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI

देहरादून. देहरादून और ऋषिकेश को रेल सेवा से जोड़ने काप्रस्ताव सालों बाद भी अधर में लटका है। अंग्रेजों के जमाने से लंबित पड़ी इसयोजना से न सिर्फ यातायात व्यवस्था पर भारी असर पड़ रहा है बल्कि पर्यटन के लिहाजसे राज्य की आर्थिकी को भी धक्का पहुंच रहा है । दून-ऋषिकेश सीधी रेल लाइन के लिएऋषिकेश और आसपास के क्षेत्रों की जनता ने इसे बनाने की मांग उठाई। लेकिन सरकारोंके उपेक्षित रवैये की वजह से यह मुहिम आगे नहीं बढ़ पाई।


तीर्थ नगरी से तकरीबन हज़ारों लोग रोजानदेहरादून, सेलाकुई और आसपास की जगहों पर आवाजाही करते हैं। यात्री या तो अपनेवाहनों से इस दूरी को तय करते हैं या फिर बस से करीब डेढ़ घंटे का सफर कर दूनपहुंचते हैं। दूसरी सबसे बड़ी परेशानी की वजय यह कि ऋषिकेश और देहरादून के बीचसड़क मार्ग आए दिन हाथियों के चलते बाधित रहता है, जिस कारण सड़क पर घंटों जाम लगरहता है। ऐसे में जरूरत है की अंग्रेजों के जमाने से अधर में लटका ऋषिकेश-देहरादून रेल प्रोजेक्ट को हरी झंडी मिले। ताकी राज्य के इन दो प्रमुख शहरों कोआपस में जोड़ा जा सके।

  

Todays Beets: