Saturday, January 20, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

कुटुंब देवी मंदिर की खोज जारी

कुटुंब देवी मंदिर की खोज जारी
अल्मोड़ा. देशभर में दर्जनों ऐसी राष्ट्रीय धरोहरें हैं, जिनकाकुछ पता नहीं चल रहा। इनकी तलाश में जुटे भारतीय पुरातत्व विभाग ने अब इन धरोहरोंको खोज निकालने का जिम्मा इसरो को सौंप दिया है। उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट्र,असम, अरूणाचल प्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों में राष्ट्रीय धरोहरों की तलाश जारीहै। इनमें एक धरोहर उत्तराखंड में भी है। अल्मोड़ा के द्वाराहाट से गुम हुई राष्ट्रीयधरोहर का नाम कुटुंबरी देवी मंदिर है। आर्किलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के मुताबिक सन 1950 में द्वाराहाट का कुटुंबरी मंदिर पहाड़ीके ऊंचे ढलान पर स्थित था, लेकिन 1950 से 1960 के बीच यह मंदिर ध्वस्त हो गया औरइसकी सामग्री को आस-पास के लोगों ने अपने घरों की दीवारें बनाने के लिए इस्तेमालकर लिया। हालांकि इसकी प्रमाणिकता को लेकर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।

देशभर में गुम हुई 92 राष्ट्रीय धरोहरों में से68 को खोजा जा चुका है। इनमें से 42 अभी अस्तित्व में पाए गए जबकि 14 धरोहरेंशहरीकरण की तो 14 धरोहरें जलाशयों और बांधों की भेंट चढ़ गईं।


नेशनल रीमोट सेंसिंग सेंटर यानी इसरो इन दिनोंतकनीक की मदद से कुटुंब देवी मंदिर की खोज में जुटा है। बहरहाल, उम्मीद करते हैंकि सालों पहले विलुप्त हुए मंदिर के अवशेष एक बार फिर अस्तित्व में आएंगे।

  

Todays Beets: