Tuesday, August 14, 2018

Breaking News

   मंगल ग्रह पर आशियाना बनाएगा इंसान, वैज्ञानिकों को मिली पानी की सबसे बड़ी झील     ||   भाजपा नेता का अटपटा ज्ञान, 'मृत्युशैया पर हुमायूं ने बाबर से कहा था, गायों का सम्मान करो'     ||   आज से एक हुए IDEA-वोडाफोन! अब बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी     ||   गोवा में बड़ी संख्‍या में लोग बीफ खाते हैं, आप उन्‍हें नहीं रोक सकते: बीजेपी विधायक     ||   चीन फिर चल रहा 'चाल', डोकलाम में चुपचाप फिर शुरू कीं गतिविधियां : अमेरिकी अधिकारी     ||   नीरव मोदी, चोकसी के खिलाफ बड़ा एक्शन, 25-26 सितंबर को कोर्ट में पेश होने के आदेश     ||   जापान में फ़्लैश फ्लड से 200 लोगों की मौत     ||   देहरादून में जलभराव पर सरकार ने लिया संज्ञान अधिकारियों को दिए निर्देश     ||   भारत ने टॉस जीता फील्डिंग करने का फैसला     ||   उपेन्द्र राय मनी लाउंड्रिंग मामले में सीबीआई ने 2 अधिकारियों को गिरफ्तार किया     ||

कुटुंब देवी मंदिर की खोज जारी

कुटुंब देवी मंदिर की खोज जारी
अल्मोड़ा. देशभर में दर्जनों ऐसी राष्ट्रीय धरोहरें हैं, जिनकाकुछ पता नहीं चल रहा। इनकी तलाश में जुटे भारतीय पुरातत्व विभाग ने अब इन धरोहरोंको खोज निकालने का जिम्मा इसरो को सौंप दिया है। उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट्र,असम, अरूणाचल प्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों में राष्ट्रीय धरोहरों की तलाश जारीहै। इनमें एक धरोहर उत्तराखंड में भी है। अल्मोड़ा के द्वाराहाट से गुम हुई राष्ट्रीयधरोहर का नाम कुटुंबरी देवी मंदिर है। आर्किलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के मुताबिक सन 1950 में द्वाराहाट का कुटुंबरी मंदिर पहाड़ीके ऊंचे ढलान पर स्थित था, लेकिन 1950 से 1960 के बीच यह मंदिर ध्वस्त हो गया औरइसकी सामग्री को आस-पास के लोगों ने अपने घरों की दीवारें बनाने के लिए इस्तेमालकर लिया। हालांकि इसकी प्रमाणिकता को लेकर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।

देशभर में गुम हुई 92 राष्ट्रीय धरोहरों में से68 को खोजा जा चुका है। इनमें से 42 अभी अस्तित्व में पाए गए जबकि 14 धरोहरेंशहरीकरण की तो 14 धरोहरें जलाशयों और बांधों की भेंट चढ़ गईं।


नेशनल रीमोट सेंसिंग सेंटर यानी इसरो इन दिनोंतकनीक की मदद से कुटुंब देवी मंदिर की खोज में जुटा है। बहरहाल, उम्मीद करते हैंकि सालों पहले विलुप्त हुए मंदिर के अवशेष एक बार फिर अस्तित्व में आएंगे।

  

Todays Beets: