Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

कुटुंब देवी मंदिर की खोज जारी

कुटुंब देवी मंदिर की खोज जारी
अल्मोड़ा. देशभर में दर्जनों ऐसी राष्ट्रीय धरोहरें हैं, जिनकाकुछ पता नहीं चल रहा। इनकी तलाश में जुटे भारतीय पुरातत्व विभाग ने अब इन धरोहरोंको खोज निकालने का जिम्मा इसरो को सौंप दिया है। उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, महाराष्ट्र,असम, अरूणाचल प्रदेश और राजस्थान जैसे राज्यों में राष्ट्रीय धरोहरों की तलाश जारीहै। इनमें एक धरोहर उत्तराखंड में भी है। अल्मोड़ा के द्वाराहाट से गुम हुई राष्ट्रीयधरोहर का नाम कुटुंबरी देवी मंदिर है। आर्किलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के मुताबिक सन 1950 में द्वाराहाट का कुटुंबरी मंदिर पहाड़ीके ऊंचे ढलान पर स्थित था, लेकिन 1950 से 1960 के बीच यह मंदिर ध्वस्त हो गया औरइसकी सामग्री को आस-पास के लोगों ने अपने घरों की दीवारें बनाने के लिए इस्तेमालकर लिया। हालांकि इसकी प्रमाणिकता को लेकर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।

देशभर में गुम हुई 92 राष्ट्रीय धरोहरों में से68 को खोजा जा चुका है। इनमें से 42 अभी अस्तित्व में पाए गए जबकि 14 धरोहरेंशहरीकरण की तो 14 धरोहरें जलाशयों और बांधों की भेंट चढ़ गईं।


नेशनल रीमोट सेंसिंग सेंटर यानी इसरो इन दिनोंतकनीक की मदद से कुटुंब देवी मंदिर की खोज में जुटा है। बहरहाल, उम्मीद करते हैंकि सालों पहले विलुप्त हुए मंदिर के अवशेष एक बार फिर अस्तित्व में आएंगे।

  

Todays Beets: