Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

रिजर्व बैंक ने अपनाया पुराने नोटों को खपाने का अनोखा तरीका, तैयार किया जा रहा हार्डबोर्ड 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
रिजर्व बैंक ने अपनाया पुराने नोटों को खपाने का अनोखा तरीका, तैयार किया जा रहा हार्डबोर्ड 

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने 500 और 1000 रुपये के नोट बंद कर दिया। सरकार की इस घोषणा के बाद करोड़ों रुपये बैंकों में जमा हुए। एक आम आदमी के मन में ये सवाल उठना लाजमी है कि जब ये नोट चलन में नहीं हैं तो रिजर्व बैंक इतने पुराने नोटों का क्या करेगा। हम आपको बता रहे हैं कि रिजर्व बैंक की केरल शाखा ने इन पुराने नोटों को ठिकाने लगाने का अनोखा तरीका ढूंढ़ निकाला है। अब इससे लकड़ी के हार्डबोर्ड तैयार किया जा रहा है।

रीसाइकिल होगा नोट

रिजर्व बैंक की केरल शाखा इन पुराने नोटों को छोटे-छोटे टुकड़े में बांटने के बाद देश की एकमात्र हार्डबोर्ड निर्माता फैक्ट्री ‘द वेस्टर्न इंडिया प्लाईवुड्स लिमिटेड’ को बेच रही है, ताकि वह इन्हें उत्तरी केरल के कन्नूर जिले में स्थित अपनी फैक्टरी में रीसाइकिल कर सके।

नोटों से तैयार हो रहा हार्डबोर्ड


आपको बता दें कि तिरूवनंतपुरम से करीब साढ़े चार सौ किलोमीटर की दूरी पर स्थित यह फैक्ट्री इन पुराने नोटों को रीसाइकिल कर लुगदी में तब्दील कर देता है। इसके लिए करीब 95 फीसदी लकड़ी की लुगदी में 5 फीसदी नोटों की लुगदी मिलाकर हार्डबोर्ड तैयार करती है। 

आसान नहीं था काम

द वेस्टर्न इंडिया प्लाईवुड्स लिमिटेड के प्रबंध निदेशक ने बताया कि नोटों को लुगदी में तब्दील करना आसान नहीं था, क्योंकि नोटों के कागज काफी मजबूत थे। ये आसानी से रीसाइकिल नहीं हो पाते थे। हमारे इंजीनियरों ने हार नहीं मानी और इसे रीसाइकिल करने का तरीका निकाल लिया। अब हम न सिर्फ इससे लुगदी बना सकते हैं बल्कि पर्यावरण को होने वाले नुकसान से भी बचा रहे हैं। फैक्ट्री को अब तक सिर्फ तीन सप्ताह में ही करीब 80 टन पुराने नोट मिल चुके हैं। फैक्ट्री के मैनेजर ने बताया कि आरबीआई पहले इन नोटों को सिर्फ जला रही थी। अब हम इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। हमें हार्डबोर्ड की मैटीरियल तैयार करते समय नोटों से बनी लुगदी का पर्सेंटेज का खास ख्याल रखना पड़ता है क्योंकि अगर यह गलत मात्रा में मिल जाता है तो तैयार हार्डबोर्ड के खराब होने की संभावना रहती है। 

Todays Beets: