Friday, January 19, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

टिहरी बांध : सुविधा या सवाल

टिहरी बांध : सुविधा या सवाल

टिहरी बांध परियोजना ... भारत की नदी घाटी परियोजनाओं में सबसे अहम।उत्तराखण्ड के टिहरी ज़िले में बना यह बांध एशिया का सबसे बड़ा और विश्व कापांचवां सबसे ऊंचा बांध है। भागीरथीनदी पर बने लगभग 261 मीटर की ऊंचाई वाले इस डैम से 2400 मेगा वाट बिजली उत्पादन, 2,70,000 हेक्टर क्षेत्र की सिंचाई और हर दिन 102.20 करोड़ लीटर पानी उत्तराखंडसमेत दिल्ली, उत्तर प्रदेश को मिल सकेगा। हालांकि परियोजना को सफल बनाने के लिए राज्यऔर केंद्र सरकार की ओर से करोड़ों रू. खर्च किए जा रहे हैं। बावजूद डेम परियोजनाको अपने-अपने चश्मे से देक रहे हैं। दरअसल, यह परियोजनाहिमालय के केंद्रीय क्षेत्र में स्थित है। यहां आस-पास 6.8 से 8.5 तीव्रता केभूकंप आने का खतरा है , ऐसा होने पर बांध के टूटने के कारणऋषिकेश, हरिद्वार, बिजनौर, मेरठ और बुलंदशहर जैसेबड़े शहर जलमग्न हो जाएंगे। शायद यही वजह है कि सुंदरलाल बहुगुणा जैसे कईपर्यावरणविदों ने इस परियोजना का का विरोध किया है। हालांकि इस परियोजना कासकारात्मक रूप देखा जाए,तो 2050 तक देश में थर्मल बिजली खत्महो जाएगी, कोयला खत्म हो जाएगा, तब बसपानी से बिजली पैदा होगी। जिससे उत्तारखंड को भी एक बड़ा फायदा मिलेगा, क्योंकि उत्तराखण्ड जो बिजली उत्पादन करता है उसका करीब 12 प्रतिशत हिस्साही उसे मिलता है, बाकी बिजली या तो केन्द्र को दी जाती है याएजेंसी/ठेकेदार को जाती है। बहरहाल, इस बात में कड़वी सच्चाईहै कि जब बड़े बांध बनेंगे, तो आसपास बसे इलाकों में कुछसमस्याएं होती हैं,खैर उम्मीद करते हैं कि टिहरी बांधपरियोजना इन तमाम सवालों को पिछे छोड़ लोगों को बिजली और पेयजल की सुविधा उपलब्धकरायेगा।


  

Todays Beets: