Tuesday, January 23, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

उत्तराखंड है मजबूर, आज भी विकास से है दूर !

उत्तराखंड है मजबूर, आज भी विकास से है दूर !
Normal 0 false false false EN-US X-NONE HI

देहरादून, टीम अंग्वाल, 13 मई

राज्य निर्माण के लगभग 15 सालों बाद भी उत्तराखंड अपने पांव परखड़ा नहीं हो पा रहा है। प्राकृतिक चुनौतियों और राजनीतिक उथपथल से जूझ रहा यहराज्य आर्थिक रूप से बेहद कमज़ोर है। अगर पर्यटन को छोड़ दिया जाए, तो प्रदेश में ऐसा कोई व्यवसाय, रोजगारके लिहाज से कामयाब नज़र नहीं आता। मैदानी इलाकों में तो फिर भी युवाओं के लिएरोटी कमाने के इक्का दुक्का साधन नज़र आते हैं, लेकिनपहाड़ों में हालात बेहद खराब हैं। पल-पल रंग बदलता मौसम और घड़ी-घड़ी आती प्राकृतिकविपदाओं से दो-चार होते ग्रामीण न चाह कर भी पलायन करने को मजबूर हैं। ऊंचाई वालेइलाकों में ऐसे कई गांव जो सर्दियों के दिनों में विरान और सुनसान हो जाते हैं।पहाड़ी प्रदेश की इस विकट स्थिती का जिम्मेदार सरकारी नुमाईंदों को कहें तो गलतनहीं होगा।

भ्रष्टाचार, लापरवाही और संवाद की कमी के चलतेराजनेता अपने विधानसभा क्षेत्रों के भौगोलिक और सामरिक परिस्थितियों से रूबरू हीनहीं हो पाते। अधिकारी वर्ग से उन्हें जो जानकारी हासिल भी होती है वही भी आधीअधूरी होती है। जिसका खामियाजा आज राज्य का हर वो शख्स भुगत रहा है। जिसने अलगराज्य के निर्माण की मांग को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला था।


राज्य को विकास की पटरी पर आगे बढ़ानेके लिए प्रदेश सरकार ने कई योजनाएं चलाईं। धार्मिक स्थलों के साथ साथ साहसिकपर्यटन को बढ़ावा देने पर जोर दिया जा रहा है। ताकी ज्यादा से ज्यादा सैलानियों कोउत्तराखंड की ओर आकर्षित किया जा सके। बावजूद इसके राज्य आज भी विकास की पटरी परआगे नहीं दौड़ पा रहा है। ऐसे में जरूरत है कि हम राज्य निर्माण के लिए उठाए जारहे अपने प्रयासों को सही दिशा में आगे बढ़ाएं, ताकीउत्तराखंड के विकास को नई दिशा मिल सके।

 

  

Todays Beets: