Wednesday, September 30, 2020

कल है सर्व पितृ अमावस्या , जिन्हें अपने पितरों की मृत्यु की तिथि नहीं पता वो कर सकते इस दिन श्राद्ध

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कल है सर्व पितृ अमावस्या , जिन्हें अपने पितरों की मृत्यु की तिथि नहीं पता वो कर सकते इस दिन श्राद्ध

देहरादून। आखिरकार 16 सितंबर को चतुर्दशी का श्राद्ध समाप्त हो गया । इस तिथि पर उन लोगों का श्राद्ध कर्म किया जाता है जिनकी मृत्यु चतुर्दशी की तिथि को हुई हो । पंचांग के अनुसार चतुर्दशी की तिथि शाम 7 बजकर 58 मिनट तक है, जिसके बाद अमावस्या शुरू हो जाएगी , लेकिन सर्व पितृ अमावस्या का श्राद्ध गुरुवार यानी 17 सितंबर को किया जाएगा । पंचांग के अनुसार इस दिन सिद्ध योग बना हुआ है । 16 सितंबर को अभिजीत मुहूर्त नहीं है , ऐसे में राहुकाल का विशेष ध्यान रखें । इस दिन राहु काल का समय दोपहर12 बजकर 15 मिनट से 13 48 मिनट तक है । 

अमावस्या तिथि शाम 19 बजकर 58 मिनट 17 सेकेंड से आरंभ हो गई है । अमावस्या तिथि समाप्त का समापन 17 सितंबर 2020 को शाम 4 बजकर 31 मिनट 32 सेकेंड तक रहेंगा । सर्व पितृ अमावस्या 17 सितंबर को है। यह श्राद्ध का अंतिम दिन होता है। इसलिए यह पितरों की विदाई का दिन माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि इस दिन उन पितरों का श्राद्ध कर्म किया जाता है जिनकी मृत्यु तिथि ज्ञात नहीं होती है। इसके अलावा यदि किसी का श्राद्ध भूल गए हैं तो इस दिन उनका श्राद्ध किया जाता है। 

जानकारों का कहना है कि जब श्राद्ध पक्ष प्रारंभ होता है तो मृत्यु लोक से पितृ धरती लोक में अपनी संतानों से मिलने आते हैं और आश्विन माह की अमावस्या के दिन वे वापस अपने लोक में लौट जाते हैं। ऐसी मान्यता है कि जो व्यक्ति श्रद्धा और विश्वास से नमन कर पितरों को विदा करते हैं उनके घर में सुख-शांति का आगमन होता है। 

जानिए क्यों खास है उत्पन्ना एकादशी , धर्म एवं मोक्ष फलों की प्राप्ति के लिए रखें यह व्रत


हनुमानजी के इन 12 नामों में से करें किसी का भी जाप , पवनपुत्र हरेंगे आपके कष्ट, जानें ये नाम

बता दें कि पितृपक्ष में तर्पण और श्राद्ध करने का विधान बताया गया है । श्राद्ध करने के दौरान सर्वप्रथम हाथ में कुशा, जौ, काला तिल, अक्षत् और जल लेकर संकल्प लें । संकल्प लेने के बाद "ॐ अद्य श्रुतिस्मृतिपुराणोक्त सर्व सांसारिक सुख-समृद्धि प्राप्ति च वंश-वृद्धि हेतव देवऋषिमनुष्यपितृतर्पणम च अहं करिष्ये." मंत्र का उच्चारण करें ।  पितरों का आह्वान करते हुए पूजा आरंभ करें। पूजा का समाप्त होने के बाद ब्राह्मणों को भोजन कराएं । इसके बाद दान आदि का कार्य करें। कौवे, गाय और कुत्ते के लिए भोजन निकाल कर रखें । 

भगवान भोलेनाथ को कर सकते हैं महज 5 मिनट की पूजा से खुश, जानें हर मिनट अराधना का विधान

sarv pitru amavasya    pitru paksh    amavasya    सर्व पितृ अमावस्या    pitru paksha news    pitru paksha 2020    know your zodiac sign     shani pradosh vrat     sanyog in saavan      horoscope      chandra grahan 2020         kaal sarp yog        rahu         ketu          jyotish         luner        lunar eclipse          chandra grahan          khandgrass eclipse            solar eclipse 2019        last solar eclipse 2020          खंडग्रास           चंद्रग्रहण           सूर्य ग्रहण           Devutthana      Ekadashi        काल सर्प योग          Utpanna Ekadashi        origin of Ekadashi fasting         Goddess Ekadashi            Lord Vishnu             dharm         auspicious dates          Subh muhurat           mangal karya            marriage dates in 2020         auspicious dates in 2020          dev uthani         ekadashI 2020              शुभ मुहूर्त                शुभ लग्न       एकादशी      पितृ पक्ष    श्राद्ध     देव उठावनी              देवोत्थान एकादशी        अमावस्या    सर्व पितृ अमावस्या        चतुर्दशी    डूबे तारे    

Todays Beets: