Tuesday, October 27, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

नींद की गोलियों का ज्यादा इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक, हो सकती है भूलने की बीमारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
नींद की गोलियों का ज्यादा इस्तेमाल हो सकता है खतरनाक, हो सकती है भूलने की बीमारी

नई दिल्ली। आज की इस तेज रफ्तार जिन्दगी में हमारे पास अपनी सेहत का ध्यान रखने का वक्त भी बहुत कम ही मिल पाता है। आज हमारे काम का समय इतना बदल गया है कि हमारी नींद भी मुश्किल से ही पूरी हो पाती है। ऐसे में कई बार नींद आने के लिए लोग दवाओं का सहारा लेने लगते हैं और धीरे-धीरे यह आदत दवाओं के हैवी डोज लेने लगते हैं। क्या आपको इस बात की जानकारी है कि नींद की गोलियां आपको एक नई बीमारी दे सकती हैं। एक शोध में इस बात का पता चला कि व्यक्ति बेंजोडायजेपीन्स और जेड ड्रग महीने में कम से कम एक बार लेता है। 

गौरतलब है कि नींद की गोलियां ज्यादा लेने से आपको अल्जाइमर्स की बीमारी हो सकती है। अमेरिका और ब्रिटेन में हुए एक शोध में इस बात का पता चला है कि नींद लाने के लिए दवाओं का सहारा लेना काफी खतरनाक साबित हुआ है। बताया जा रहा है कि ब्रिटेन में करीब 26 हजार लोगों पर किए गए शोध मंे इस बात का खुलासा हुआ कि इन लोगों में भूलने की बीमारी पैदा होती जा रही है। 


ये भी पढ़ें - सैनिटाइजर का ज्यादा इस्तेमाल आपको कर सकता बीमार, जानें कैसे

यहां बता दें कि यह शोध यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्टर्न फिनलैंड के शोधकर्ताओं  द्वारा की गई।  अगर आप भी नींद के लिए दवाओं का इस्तेमाल करते हैं तो सावधान हो जाएं। बताया जा रहा है कि डाॅक्टरों की तरफ से हैवी डोज अनिद्रा और तनाव को कम करने के लिए दिया जाता है लेकिन इसका उपयोग 4 हफ्तों से ज्यादा नहीं करना चाहिए। 

Todays Beets: