Thursday, February 20, 2020

Breaking News

   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||   रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सुरक्षा में चूक, मोटरसाइकिल काफिले के सामने आया शख्स     ||

अनुपम खेर ने एफटीआईआई का अध्यक्ष पद छोड़ा, व्यस्तताओं का दिया हवाला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अनुपम खेर ने एफटीआईआई का अध्यक्ष पद छोड़ा, व्यस्तताओं का दिया हवाला

नई दिल्ली। मशहूर फिल्म अभिनेता अनुपम खेर से एफटीआईआई के अध्यक्ष के पद से इस्तीफा बुधवार को इस्तीफा दे दिया। खेर ने इस्तीफा के देने की वजह अपनी व्यवस्तताओं के चलते संस्था को समय नहीं दे पाना बताया है। गौर करने वाली बात है कि अनुपम खेर को अक्टूबर 2017 में फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एफटीआईआई) का चेयरमैन नियुक्त किया गया था। अनुपम खेर ने जून 2015 में एनडीए सरकार द्वारा नियुक्त गजेंद्र चौहान की जगह ली थी।

गौरतलब है कि अभिनेता अनुपम खेर इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ की शूटिंग में व्यस्त हैं। इस फिल्म में वे पूर्व प्रधनानमंत्री डाॅक्टर मनमोहन सिंह की भूमिका अदा कर रहे हैं। पिछले दिनों अनुपम खेर ने कहा था कि इतिहास कांग्रेस नेता मनमोहन सिंह को गलत नहीं समझेगा। 


ये भी पढ़ें - #METOO अभियान - आलोकनाथ की ऑनस्क्रीन 'बहु' रेणुका शहाणे ने लगाए 'ससुरजी' पर आरोप, कहा- फिल्म ...

यहां बता दें कि गजेन्द्र चौहान के कार्यकाल के दौरान एफटीआईआई काफी विवादों से घिरा रहा था। चौहान की नियुक्ति को लेकर एफटीआईआई कैंपस में छात्रों ने भी 3 महीने से ज्यादा समय तक प्रदर्शन किया था लेकिन एनडीए सरकार ने उन्हें हटाने से इंकार कर दिया था। छात्रों ने उस समय पुणे से लेकर दिल्ली के जंतर-मंतर तक विरोध प्रदर्शन किया था। फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों ने भी गजेन्द्र की योग्यता पर सवाल उठाए थे।  

Todays Beets: