Tuesday, October 4, 2022

Breaking News

   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||   अगले साल अंतरिक्ष जाएंगे भारतीय , एक या दो भारतीयों को भेजने की योजना है     ||

'रेवड़ी कल्चर' पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला , कोर्ट ने कहा - लोकतंत्र में असल ताकत मतदाता के पास

अंग्वाल न्यूज डेस्क

नई दिल्ली । सियासी पार्टियों के बाद कुछ राज्य सरकारों द्वारा शुरू किए गए 'रेवड़ी  कल्चर' को लेकर शुक्रवार सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है । एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने इस मामले को3 जजों की बेंच के पास भेजा दिया है । इससे पहले रेवड़ी कल्चर से जुड़ी याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में चुनाव आयोग (EC) और केंद्र सरकार दोनों ने अपना पक्ष रखा । सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता ने बिना राज्य की आर्थिक स्थिति का आकलन किए हुए मुफ्त घोषणा किए जाने का मसला उठाया है । कोर्ट ने कहा कि याचिकाकर्ता का कहना है कि ये रेवड़ी कल्चर चुनाव प्रक्रिया को बाधित करता है । 

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (Chief Justice Of India) एन. वी. रमन्ना (NV Ramana) ने इस मुद्दे से जुड़ी याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि चुनाव आयोग और सरकार ने अपना पक्ष रखा है । दलीलों में कहा गया कि लोकतंत्र में असल ताकत मतदाता के पास है । मुफ्त सुविधाओं की घोषणा ऐसी स्थिति पैदा कर सकती है कि राज्य की आर्थिक सेहत बिगड़ जाए । कोर्ट के सामने सवाल ये है कि वो इस तरह के मामलों में किस हद तक दखल दे सकता है । कोर्ट ने विचार के लिए मामला तीन जजों की बेंच को भेजा है । 


सुप्रीमकोर्ट के इस फैसले के बाद अब इस मामले को तीन जजों की बेंच सुनेगी । कोर्ट ने अपने आदेश में कहाहै कि मामले की जटिलता को देखते हुए ये बेहतर होगा कि तीन जजों की बेंच साल 2013 में दिए गए सुप्रीम कोर्ट के फैसले की समीक्षा करे । 2013 के उस फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने ऐसी घोषणाओं को करप्ट प्रैक्टिस नहीं माना था ।

 

Todays Beets: