Thursday, December 1, 2022

Breaking News

   सुकेश चंद्रशेखर विवाद के बीच तिहाड़ जेल से हटाए गए DG संदीप गोयल, संजय बेनीवाल को मिली कमान     ||   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||

इमरान खान पर जानलेवा हमले के बाद पाक में गृहयुद्ध के हालात , सत्ता अपने काबू में ले सकती है सेना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इमरान खान पर जानलेवा हमले के बाद पाक में गृहयुद्ध के हालात , सत्ता अपने काबू में ले सकती है सेना

नई दिल्ली । पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान पर गुरुवार को एक रैली के दौरान हुए जानलेवा हमले के बाद पड़ोसी मुल्क में गृहयुद्ध जैसे हालात पैदा हो गए हैं । इमरान खान इस हमले में बाल बाल बच गए , हालांकि वह चोटिल जरूर हुए हैं । लेकिन इस हमले के बाद इमरान खान की पार्टी के तमाम नेता और कार्यकर्ता सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर रहे हैं । जिस तरह से पीपीपी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतरकर हंगामा कर रहे हैं , उससे पाकिस्तान में हालात बिगड़ने की आशंका जताई जा रही है । ऐसी आशंका जताई जा रही है कि यह मामला गृहयुद्ध का आधार बन सकता है । इस सबके मद्देनजर अब यह आशंका जताई जा रही है कि सेना देश की बागडोर अपने हाथ में ले सकती है। उठे सवाल , शरीफ सरकार से काबू होंगे हालात

विदित हो कि पाकिस्तान की शहबाज शरीफ सरकार के खिलाफ वहां के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने गत 28 अक्टूबर से हकीकी आजादी मार्च की शुरुआत की थीष इस मार्च का मकसद सरकार को उखाड़ फेंकने और पाकिस्तान में आम चुनाव करवाने का था । इस मार्च के दौरान ही गुरुवार को एक शख्स ने इमरान खान पर जानलेवा हमला किया , हालांकि इमरान बाल बाल बच गए । लेकिन इस पूरे घटनाक्रम से पैदा हुए हालात अब बिगड़ते नजर आ रहे हैं । सवाल उठ रहे हैं कि क्या शरीफ सरकार इस हालात पर काबू पा सकेगी । आखिर कैसे शहबाज शरीफ की सरकार इस हालात को कंट्रोल कर पाएगी और इसके लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं।  

क्या था इमरान खान का मकसद

असल में पाकिस्तान की शहबाज शरीफ सरकार के खिलाफ इमरान खान के नेतृत्व में उनकी पार्टी ने 28 अक्टूबर से हकीकी आजादी मार्च की शुरुआत की ।  इस मार्च का मकसद सरकार को उखाड़ फेंकने और पाकिस्तान में आम चुनाव करवाने का था ।  मार्च को लेकर पहले ही अलर्ट जारी किया गया था और खुफिया एजेंसियां भी इस पर नजर रख रही थीं । कुल मिलाकर इमरान खान एक बार फिर पीएम की कुर्सी तक पहुंचने की कोशिश में जुटे है।  


जानें कैसे घायल हुए इमरान

बता दें कि अपने हकीकी आजादी मार्च के दौरान गुरुवार को उनकी पार्टी के हजारों कार्यकर्ता और पदाधिकारी पंजाब प्रांत में स्थित गुजरांवाला में थे। वहां इमरान खान अपने हजारों समर्थकों के साथ सरकार विरोधी मार्च निकाल रहे थे । इमरान एक खुली गाड़ी में थे । इसी दौरान अचानक वहां गोलियों की तड़तड़ाहट शुरू हो गई । इस हमले में इमरान के पैर में गोली के छर्रे लगे ।इतना ही नहीं उनके साथ खड़े कई अन्य नेता भी घायल हो गए । 

हालांकि इमरान पर गोली चलाने वाले शख्स को लोगों ने दबोच लिया ।  उसका एक वीडियो भी सामने आया, इस वीडियो में हमलावर इमरान खान की हत्या की बात कर रहा है. उसका कहना था कि इमरान देश को गुमराह कर रहे हैं, इसीलिए वो उनकी हत्या करना चाहता था । 

बहरहाल , इस पूरे घटनाक्रम के बाद पाकिस्तान के अलग अलग प्रांत में हंगामा बढ़ना शुरू हो गया है । इस हंगामे को रोकने के लिए शरीफ सरकार कुछ प्रयास करती तो नजर आ रही है लेकिन यह नाकाफी नजर आ रहे हैं । ऐसे में अब आशंका जताई जा रही है कि अगले कुछ दिनों में यह मुद्दा शांत नहीं हुआ तो सेना को अपने हाथ में शासन की कमान लेनी पड़ सकती है ।  

Todays Beets: