Friday, May 20, 2022

Breaking News

    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||   आंध्र प्रदेश: गुड़ी पड़वा के जश्न के दौरान भक्तों के बीच मंदिर में मारपीट, दुकानों में तोड़फोड़-आगजनी     ||   दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके जाने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचीं राणा अयूब     ||   सोनिया गांधी ने बोला केंद्र पर हमला, लगाया MGNREGA का बजट कम करने का आरोप     ||   केजरीवाल के आवास पर हमला: दिल्ली HC पहुंची AAP, एसआईटी गठन की मांग की     ||   राज्यसभा जा सकते हैं शिवपाल यादव! दो दिन से जारी है बीजेपी मुलाकातों का दौर     ||   यूपी हज समिति के अध्यक्ष बने मोहसिन रजा, राज्यमंत्री का भी दर्जा मिला     ||   दिल्ली: नई शराब नीति के विरोध में BJP, पटेल नगर समेत 14 जगहों पर शराब की दुकानें की सील     ||

सुप्रीम कोर्ट का ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे पर रोक लगाने से इनकार , कल सुबह से शुरू होगी सर्वे की प्रक्रिया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट का ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे पर रोक लगाने से इनकार , कल सुबह से शुरू होगी सर्वे की प्रक्रिया

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को बहुचर्चित ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे को लेकर दायर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए इसपर तत्काल रोक लगाने से मना कर दिया। सर्वे के आदेश पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे एडवोकेट हुजेफा अहमदी की ओर दायर की गई । इस मामले में गुरुवार को वाराणसी (Varansasi) की अदालत की सीनियर डिविजन के जज ने ज्ञानवापी का सर्वे कराने के बाद रिपोर्ट जारी करने की मियाद तय करते हुए इस मामले में मदद के लिए तैनात किए गए कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा को बदलने की मांग खारिज कर दी थी । इस सबके कहा गया है कि शनिवार सुबह से यह सर्वे शुरू हो सकेगा । इतना ही नहीं इस सर्वे में बाधा डालने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी । 

सुप्रीमकोर्ट ने कहा - पहले हमें पेपर देखने दें

विदित हो कि ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे को लेकर वाराणसी की कोर्ट के सीनियर डिविजन के जज ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद सर्वे करवाने की अनुमति दे दी थी, जिसके बाद आज अधिवक्ता हुजेफा अहमदी की इस फैसले पर रोक संबंधी याचिका दायर की थी । कोर्ट ने इस याचिका पर कहा- बिना पेपर देखे हम मामले को सुनवाई के लिए लिस्ट नहीं कर सकते हैं । पहले मुझे पेपर देखने दीजिए बाद में हम सुनवाई के विषय पर विचार करेंगे । 

वाराणसी कोर्ट का आदेश

असल में जस्टिस रवि कुमार दिवाकर ने अपने फैसले में कहा है कि ज्ञानवापी के तहखाने में लगे तालों को तोड़कर सर्वे का काम पूरा किया जाए । जिलाधिकारी भी इस मामले की निगरानी करेंगे । वहीं कोर्ट कमिश्नर ए के मिश्रा भी अपने पद पर बनें रहेंगे और उनके साथ दो और सहायक कमिश्नर बनाए गए हैं । ये दोनों सहायक कमिश्नर सर्वे के काम में मदद करेंगे । 

17 मई को कोर्ट में जमा होगी रिपोर्ट

बहरहाल , इस मामले में सर्वे की रिपोर्ट को लेकर सामने आया है कि एडवोकेट कमीशन (Advocate Commision) की रिपोर्ट 17 मई तक कोर्ट में जमा होनी है। ऐसे में जिला प्रशासन को इस आदेश की पालना सुनिश्चित कराने के लिए कहा गया है । 


ओवैसी का फिर भड़काऊ बयान

वहीं धार्मिक नजरिए से इतर इस मामले को लेकर जमकर सियासत भी हो रही है. एआईएमआईएम सांसद असदुद्दी ओवैसी ने कहा है कि एक मस्जिद वो खो चुके हैं ऐसे में दूसरी को नहीं खो सकते हैं. 

जज को परिवार की सुरक्षा की चिंता

इससे इतर , ज्ञानवापी मामले में सर्वे की इजाजत देने वाले वाराणसी कोर्ट के सिविल जज रवि कुमार दिवाकर ने अपने फैसले में लिखा है, 'डर का माहौल बनाया गया है । ऐसा डर कि मेरा परिवार उनकी और मेरी सुरक्षा के बारे में चिंतित था । जब भी मैं अपने घर से बाहर निकलता था, मेरी पत्नी को मेरी सुरक्षा की चिंता होती थी ।

 

 

Todays Beets: