Friday, August 19, 2022

Breaking News

   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||   अगले साल अंतरिक्ष जाएंगे भारतीय , एक या दो भारतीयों को भेजने की योजना है     ||   कोरोना से 24 घंटे में 16678 लोग हुए संक्रमित     ||   उद्धव ठाकरे ने विधायकों को लिखी भावुक चिट्ठी     ||   सुप्रीम कोर्ट मे विजय माल्या का बड़ा झटका, अवमानना मामले में दोषी करार     ||   सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में विधायकों की अयोग्यता पर फैसला लेने से स्पीकर को रोका     ||   मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया, कुलगाम में बैंक मैनेजर की हत्या में शामिल था: IGP कश्मीर     ||

हाईकोर्ट ने दी व्यवस्था - हिंदू विधवा अपने भरण पोषण के लिए ससुर से भी मांग सकती है भत्ता 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाईकोर्ट ने दी व्यवस्था - हिंदू विधवा अपने भरण पोषण के लिए ससुर से भी मांग सकती है भत्ता 

बिलासपुर । यदि कोई हिन्दू विधवा अपनी आय या अन्य संपत्ति से जीवन जीने में असमर्थ है तो वह अपने ससुर से भरण-पोषण का दावा कर सकती है । यह बात हम नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ की बिलासपुर हाईकोर्ट ने एक मामले में सुनवाई करते हुए कही है । कोर्ट ने कहा कि पति की मौत के बाद ससुर अपनी बहू को घर से निकाल देता है या महिला अलग रहती है , तो वह कानूनी रूप से भरण-पोषण का हकदार होगा । 

बता दें कि छत्तीसगढ़ की बिलासपुर हाईकोर्ट जस्टिस गौतम भादुड़ी और जस्टिस दीपक कुमार तिवारी की डिवीजन बेंच में एक मामले की सुनवाई के दौरान यह टिप्पणी सामने आई है । हाईकोर्ट की पीठ ने विधवा बहू के भरण पोषण को लेकर उठे विवाद संबंधी मामले में ससुर की याचिका को खारिज भी कर दिया । 

असल में फैमिली कोर्ट के निर्देश को एक महिला के ससुर ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी ।  सभी पक्षों को सुनने के बाद हाईकोर्ट ने फैमिली कोर्ट के निर्णय को सही ठहराया ।  फैमिली कोर्ट के 2500 रुपये भरण-पोषण देने के आदेश में बदलाव करते हुए हाईकोर्ट ने 4000 रुपये प्रतिमाह बहू को देने का आदेश दिया है । 


असल में कोरबा निवासी युवती का विवाह साल 2008 में जांजगीर-चांपा जिले के बिर्रा निवासी युवक से हुआ था । वर्ष 2012 में उसके पति की मृत्यु हो गई, जिसके बाद  ससुराल पक्ष ने महिला को घर से निकाल दिया । महिला ऐसी स्थिति में अपने मायके रहने लगी । विधवा ने 2015 में जांजगीर फैमिली कोर्ट में परिवाद दायर कर ससुराल पक्ष से भरण पोषण राशि मांगी । कोर्ट ने विधवा महिला के पक्ष में भरण-पोषण देने का फैसला दिया था । 

इस पर विधवा महिला के ससुर ने फैमिली कोर्ट के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी । उन्होंने कोर्ट के फैसले को अवैधानिक बताते हुए कहा कि हिंदू विवाह अधिनियम के तहत कोई भी महिला अपने पति से भरण पोषण का दावा कर सकती है, लेकिन ससुरालवालों पर दावा नहीं बनता । मैंने अपनी बहू को घर से नहीं निकाला, बल्कि वह खुद ही अपने मायके चली गई । अत: फैमिली कोर्ट के आदेश को खारिज किया जाए ।  

हाई कोर्ट की डिवीजन बेंच ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद स्पष्ट किया है कि हिंदू विवाह अधिनियम के तहत महिला के पति की मौत के बाद बहू की जिम्मेदारी ससुर व ससुराल वालों पर होती है । ऐसे में बहू अलग रहने या घर से निकाल देने पर भरण पोषण की हकदार है । इससे ससुराल पक्ष के लोग बच नहीं सकते ।

Todays Beets: