Friday, June 18, 2021

Breaking News

   राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट     ||   यूपीः बसपा से बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश यादव से करेंगे मुलाकात     ||   वैक्सीन विवाद पर अखिलेश यादव बोले, पहले यूपी की सारी जनता को लग जाए, फिर मैं लगवा लूंगा     ||   कांग्रेस ने चिराग को दिया न्योता, एमएलसी प्रेम चंद बोले- उनके आने से बिहार में विपक्ष मजबूत होगा     ||   बिहार में कल से एक हफ्ते तक लॉकडाउन में ढील, लेकिन नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा     ||   पाकिस्तान: आपस में दो ट्रेन टकराईं, 30 की मौत, ट्रेन में अभी भी फंसे हुए हैं बहुत से यात्री     ||   उत्तराखंड: सुनगर के पास हुआ भारी भूस्खलन, गंगोत्री हाइवे हुआ बंद, खुलने में लगेगा वक्त     ||   विवादों में आई 'Family Man 2', बैन लगाने के लिए तमिल नेताओं ने Amazon को लिखा पत्र     ||   केरलः पीटी उषा की सीएम विजयन से अपील- सभी खिलाड़ियों, उनके कोच और स्टाफ को वैक्सीनेट किया जाए     ||   इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का दावा, कोरोना की दूसरी लहर में 269 डॉक्टरों ने जान गंवाई     ||

केंद्र सरकार देगी कर्मचारियों को लॉकडाउन के दौरान की पूरी सैलरी , इन कर्मचारियों की बल्ले बल्ले

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केंद्र सरकार देगी कर्मचारियों को लॉकडाउन के दौरान की पूरी सैलरी , इन कर्मचारियों की बल्ले बल्ले

नई दिल्ली । केंद्र की मोदी सरकार ने कोरोना की दूसरी लहर से प्रभावित अलग-अलग मंत्रालयों में काम करने वाले कॉन्ट्रेक्चुअल कर्मचारियों को बड़ी राहत दी है । सरकार ने ऐलान किया है कि ऐसे कर्मचारी जो किसी भी मंत्रालय में कांट्रेक्ट पर काम कर रहे हैं, उन्हें 1 अप्रैल से 30 जून 2021 तक की पूरी सैलरी दी जाएगी । गत दिनों लॉकडाउन (Lockdown) के चलते इन contractual employees को अपने घरों पर रहना पड़ा था । 

विदित हो कि पिछले दिनों दिल्ली में कोरोना की दूसरी लहर के चलते आई आफत के बीच राष्ट्रीय राजधानी में अप्रैल से लेकर मई तक लॉकडाउन लगा रहा । इस दौरान निजी कार्यालयों की तरह की सरकारी ऑफिसों में काम करने वाले और मंत्रालयों में काम करने वाले कांट्रेक्ट वाले कर्मचारी अपने कार्यालय नहीं जा सके थे । 


केंद्र सरकार के आदेश के मुताबिक ऐसे सभी कांट्रेक्चुअल कर्मचारी जो कोरोना की दूसरी लहर के दौरान घरों में थे उनको 'ऑन ड्यूटी' माना जाएगा । सभी मंत्रालयों को इस बाबत निर्देश जारी कर दिए गए हैं । 

वहीं मंगलवार को केंद्र ने अधिकारियों की कमी का हवाला देते हुए राज्य सरकारों को भी एक पत्र भेजा है । इस पत्र में कहा है कि उप सचिव, निदेशक और संयुक्त सचिव के स्तर पर और अधिकारियों को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति के लिए अनुशंसा करें । ऐसे अधिकारियों के नामों की अनुशंसा नहीं करने के लिए कहा जिनका प्रमोशन होने वाला हो, क्योंकि ऐसे अधिकारियों को जल्द वापस भेजना जरूरी हो जाता है । 

Todays Beets: