Saturday, January 29, 2022

Breaking News

   बिहार: खान सर के समर्थन में उतरे पप्पू यादव, बोले- शिक्षकों पर केस दुर्भाग्यपूर्ण     ||   पंजाब: राहुल गांधी ने स्वर्ण मंदिर में माथा टेका, CM चन्नी और नवजोत सिंह सिद्धू भी साथ     ||   UP: मथुरा में बोले गृह मंत्री अमित शाह- माफिया पर कार्रवाई से अखिलेश को दर्द हुआ     ||   सीएम योगी का सपा पर तंज- जो लोग फ्री बिजली देने की बात कर रहे, उन्होंने UP को अंधेरे में रखा     ||   अरुणाचल प्रदेश से कई दिनों से लापता छात्र चीनी सेना को मिला, भारतीय सेना को दी गई जानकारी     ||   हैदराबाद: उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू कोरोना पॉजिटिव, एक हफ्ते तक आइसोलेशन में रहेंगे     ||   नेताजी की प्रतिमा का पीएम मोदी ने किया अनावरण, कहा- हमारे सामने नए भारत के निर्माण का लक्ष्य     ||   'यूपी में सबसे ज्यादा महिलाएं असुरक्षित हैं', अखिलेश यादव का बीजेपी पर अटैक     ||   दुख की बात है कि हमारे वीर जवानों के लिए जो अमर ज्योति जलती थी, उसे आज बुझा दिया जाएगा- राहुल गांधी     ||   चन्नी चमकौर साहिब से चुनाव हार रहे हैं, ED को गड्डी गिनता देख लोग सदमे में हैं- अरविंद केजरीवाल     ||

ऑनलाइन खाना मंगवाना अब पड़ेगा और महंगा , GST के दायरे में आए एप-आधारित फूड डिलिवरी प्लेटफार्म 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
ऑनलाइन खाना मंगवाना अब पड़ेगा और महंगा , GST के दायरे में आए एप-आधारित फूड डिलिवरी प्लेटफार्म 

नई दिल्ली । अपने घर - ऑफिस में पार्टी के दौरान ऑनलाइन खाना मंगवाना 1 जनवरी 2022 से और महंगा हो जाएगा । असल में आने वाले साल की शुरुआत से ऑनलाइन फूड डिलिवरी प्लेटफार्म मसलन जोमैटो (Zomato) और स्विगी (Swiggy) को फूड की डिलिवरी देने पर अब 5 प्रतिशत GST देना होगा । इसके चलते आगामी 1 जनवरी 2022 से इनकी सेवाओं के रेट बढ़ जाएंगे । सरकार जीएसटी की दरें इन प्लेटफार्म से वसूलेगी और ऐसे में ये प्लेटफार्म आपसे इस रकम का भार आपके ऊपर भी डालेंगे । ऐसे में आपको नए साल से इन एप के जरिए खाना मंगवाना पहले की तुलना में महंगा पड़ेगा । 

विदित हो कि फूड डिलीवरी सर्विसेज को भी जीएसटी के दायरे में लाने की मांग काफी समय से चल रही थी । इसके बाद गत 17 सितंबर को हुए GST काउंसिल की बैठक में इस मांग को मंजूरी दे दी गई । सरकार ने खाना डिलीवर करने वाली कंपनियों पर 5% GST लगाया गया है । अभी तक रेस्टोरेंट इस टैक्स को चुकाते हैं, मगर नए नियम के लागू होने से फूड डिलीवरी कंपनियां इस टैक्स को अदा करेंगे । इस नई व्यवस्था को देशभर में 1 जनवरी 2022 से शुरू किया जाएगा । 


हालांकि, सरकार ने साफ किया है कि उपभोक्ताओं पर इसका भार नहीं पड़ेगा । सरकार यह टैक्स ग्राहकों से नहीं, बल्कि एप कंपनियों से वसूलेगी । लेकिन यह बात साफ है कि कंपनियां इस बोझ को किसी ना किसी तरीके से अपने ग्राहकों से ही वसूलेगी । 

नियमों के अनुसार , फूड एग्रीगेटर एप्स की ये जिम्मेदारी होगी वो जिन रेस्टोरेंट के जरिए सर्विस प्रोवाइड करा रहे हैं उनसे टैक्स कलेक्ट करें और उसे सरकार के पास जमा कराएं ।  

Todays Beets: