Sunday, January 29, 2023

Breaking News

   दिल्लीः फ्लाइट में स्पाइसजेट की क्रू के साथ अभद्रता के मामले में एक्शन, आरोपी गिरफ्तार     ||   मोरबी ब्रिज हादसा: ओरेवा ग्रुप के मालिक जयसुख पटेल के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी     ||   भारत जोड़ो यात्राः राहुल गांधी बोले- हम चाहते हैं कि बहाल हो जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा     ||   MP में नहीं माने बजरंग दल और हिंदू जागरण मंच, 'पठान' की रिलीज के विरोध का किया ऐलान     ||   समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्या पर लखनऊ में FIR     ||   बजरंग पुनिया बोले - Oversight Committee बनाने से पहले हम से कोई परामर्श नहीं किया गया     ||   यमुना एक्सप्रेस-वे पर कोहरे की वजह से 15 दिसंबर से स्पीड लिमिट कम कर दी जाएगी     ||   भारत की यात्रा करने वाले ब्रिटेन के नागरिकों के लिए ई-वीजा सुविधा फिर से शुरू     ||   दिल्ली में अफसरों के ट्रांसफर पोस्टिंग पर अधिकार को लेकर सुप्रीम कोर्ट में 10 जनवरी से सुनवाई     ||   महाराष्ट्र के अपमान के खिलाफ महाविकास अघाड़ी 17 दिसंबर को निकालेगा मार्च     ||

सुप्रीम कोर्ट जातिवादी है , अब भी कोई शक है , EWS की बात आई तो कैसे पलटी मारी - उदित राज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट जातिवादी है , अब भी कोई शक है , EWS की बात आई तो कैसे पलटी मारी - उदित राज

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए आर्थिक आधार पर गरीब सर्वोणों को मिलने वाले आरक्षण को सही ठहराते हुए मोदी सरकार के 103वें संविधान संसोधन को हरी झंडी दिखा दी है । हालांकि सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय पीठ में से 3 जजों ने इस फैसले का समर्थन किया ,जबकि चीफ जस्टिस यूयू ललित और जस्टिस रवींद्र भट्ट ने सरकार के इस फैसले का विरोध किया । हालांकि 3-2 से यह संविधान संशोधन पास हो गया है ।

लेकिन कोर्ट के इस फैसले पर अब कुछ राजनीतिक लोगों के बयान भी सामने आने लगे हैं । पूर्व सांसद उदितराज ने कोर्ट के इस फैसले पर सवाल उठाए हैं । उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा - सुप्रीम कोर्ट जातिवादी  है, अब भी कोई शक! EWS आरक्षण की बात आई तो कैसे पलटी मारी । 


विदित हो कि उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाते हुए दो ट्वीट किए । उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा - मैं गरीब सवर्णों के आरक्षण के विरुद्ध नही हूं बल्कि उस मानसिकता का हूं कि जब जब SC/ST/OBC का मामला आया तो हमेशा SC ने कहा  कि इंदिरा साहनी मामले में लगी 50% सीमा पार नही की जा सकती कि 50% की सीमा संवैधानिक बाध्यता नही है लेकिन जब भी SC/ST/OBC को आरक्षण देने की बात आती थी तो इंदिरा साहनी मामले में लगी 50% की सीमा का हवाला दिया जाता रहा।

वहीं अपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा - मैं गरीब सवर्णों के आरक्षण के विरुद्ध नही हूं बल्कि उस मानसिकता का हूं कि जब जब SC/ST/OBC का मामला आया तो हमेशा SC ने कहा  कि इंदिरा साहनी मामले में लगी 50% सीमा पार नही की जा सकती।

 

Todays Beets: