Thursday, December 1, 2022

Breaking News

   सुकेश चंद्रशेखर विवाद के बीच तिहाड़ जेल से हटाए गए DG संदीप गोयल, संजय बेनीवाल को मिली कमान     ||   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||

सुप्रीम कोर्ट जातिवादी है , अब भी कोई शक है , EWS की बात आई तो कैसे पलटी मारी - उदित राज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट जातिवादी है , अब भी कोई शक है , EWS की बात आई तो कैसे पलटी मारी - उदित राज

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए आर्थिक आधार पर गरीब सर्वोणों को मिलने वाले आरक्षण को सही ठहराते हुए मोदी सरकार के 103वें संविधान संसोधन को हरी झंडी दिखा दी है । हालांकि सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय पीठ में से 3 जजों ने इस फैसले का समर्थन किया ,जबकि चीफ जस्टिस यूयू ललित और जस्टिस रवींद्र भट्ट ने सरकार के इस फैसले का विरोध किया । हालांकि 3-2 से यह संविधान संशोधन पास हो गया है ।

लेकिन कोर्ट के इस फैसले पर अब कुछ राजनीतिक लोगों के बयान भी सामने आने लगे हैं । पूर्व सांसद उदितराज ने कोर्ट के इस फैसले पर सवाल उठाए हैं । उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा - सुप्रीम कोर्ट जातिवादी  है, अब भी कोई शक! EWS आरक्षण की बात आई तो कैसे पलटी मारी । 


विदित हो कि उदित राज ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाते हुए दो ट्वीट किए । उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा - मैं गरीब सवर्णों के आरक्षण के विरुद्ध नही हूं बल्कि उस मानसिकता का हूं कि जब जब SC/ST/OBC का मामला आया तो हमेशा SC ने कहा  कि इंदिरा साहनी मामले में लगी 50% सीमा पार नही की जा सकती कि 50% की सीमा संवैधानिक बाध्यता नही है लेकिन जब भी SC/ST/OBC को आरक्षण देने की बात आती थी तो इंदिरा साहनी मामले में लगी 50% की सीमा का हवाला दिया जाता रहा।

वहीं अपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा - मैं गरीब सवर्णों के आरक्षण के विरुद्ध नही हूं बल्कि उस मानसिकता का हूं कि जब जब SC/ST/OBC का मामला आया तो हमेशा SC ने कहा  कि इंदिरा साहनी मामले में लगी 50% सीमा पार नही की जा सकती।

 

Todays Beets: