Wednesday, June 26, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

आम्रपाली ग्रुप को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, पुलिस ने 3 डायरेक्टरों को कस्टडी में लिया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
आम्रपाली ग्रुप को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, पुलिस ने 3 डायरेक्टरों को कस्टडी में लिया

नई दिल्ली। रियल एस्टेट का कारोबार करने वाली आम्रपाली ग्रुप को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा झटका दिया है। मंगलवार की दोपहर को कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने आम्रपाली ग्रुप के 3 डायरेक्टरों को कस्टडी में ले लिया है। सुप्रीम कोर्ट ने अनिल शर्मा के साथ 2 अन्य निर्देशकों को जांच के लिए दस्तावेज दिखाने के लिए कहा है। बताया जा रहा है कि दस्तावेजों की जांच होने तक ये तीनांे पुलिस की कस्टडी में ही रहेंगे। 

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस अरूण मिश्र और जस्टिस यूयू ललित की अध्यक्षता वाली पीठ इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि आम्रपाली ग्रुप अदालत के साथ लुका-छिपी का खेल न खेले। बता दें कि इससे पहले कोर्ट ने डीआरटी को आम्रपाली की 16 संपत्तियों की नीलामी का आदेश दिया था। सम्पतियों की बिक्री से करीब 1600 करोड़ की उगाही होगी। ये रकम सुप्रीम कोर्ट परिसर में मौजूद बैक में जमा होगी।


ये भी पढ़ें - Breaking News - छत्तीसगढ़ के भिलाई स्टील प्लांट की गैस पाइप लाइन में मरम्मत के दौरान ब्लास्ट,...

यहां बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने इससे पहले भी कंपनी के निर्देशकों के विदेश जाने पर रोक लगा दी थी और अपने सभी दस्तावेज को डीआरटी के सामने पेश करने के आदेश दिए थे।  कोर्ट ने इस बात पर भी नाराजगी जताई कि साल 2015 के के बाद कंपनी के द्वारा खोले गए 46 बैंक खातों की जानकारी क्यों नहीं दी गई। 

Todays Beets: