Thursday, July 18, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

टूट गया सपा-बसपा गठबंधन , मायावती का ऐलान- सपा ने हमारी पार्टी तोड़ने की कोशिशें कीं , आगे सभी चुनाव लड़ेंगे अकेले

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टूट गया सपा-बसपा गठबंधन , मायावती का ऐलान- सपा ने हमारी पार्टी तोड़ने की कोशिशें कीं , आगे सभी चुनाव लड़ेंगे अकेले

लखनऊ । लोकसभा चुनावों को लेकर बनाया गया सपा-बसपा गठबंधन ने आखिरकार अंतिम सांसें ले ली हैं । बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपना रुख साफ करते हुए एक ट्वीट किया । मायावती ने लिखा कि पार्टी के हित में अब बीएसपी आगे होने वाले सभी छोटे-बड़े चुनाव अकेले अपने बूते पर ही लड़ेगी । उन्होंने कहा कि बसपा की आल इण्डिया बैठक रविवार को लखनऊ में हुई थी, जो ढाई घण्टे तक चली । इसके बाद देर रात तक राज्यवार बैठकों का दौर चला । इस दौरान मीडिया मौजूद नहीं थी, फिर भी जो बातें मीडिया में आईँ, वह पूरी तरह ठीक नहीं है।


 

वहीं सपा नेता ने मायावती के इस रुख पर कहा कि हम खुद अब गठबंधन का हिस्सा नहीं बनेंगे । मायावती हम पर आरोप लगा रही हैं, जबकि वह शून्य से 10 सीटों तक पहुंच गई हैं। इसी क्रम में राज्य के उपमुख्यमंत्री कैशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि यह तो होना ही था। हमने पहले ही कहा था कि यह ठगबंधन है, जो लोकसभा चुनावों के बाद टूट जाएगा।

इससे इतर गठबंधन को लेकर मायावती ने कहा- वैसे भी जगजाहिर है कि सपा के साथ सभी पुराने गिले-शिकवों को भुलाने के साथ-साथ सन् 2012-17 में सपा सरकार के बीएसपी व दलित विरोधी फैसलों, प्रमोशन में आरक्षण विरूद्ध कार्यों एवं बिगड़ी कानून व्यवस्था आदि को दरकिनार करके देश व जनहित में सपा के साथ गठबंधन धर्म को पूरी तरह से निभाया। लोकसभा आमचुनाव के बाद सपा का व्यवहार बीएसपी को यह सोचने पर मजबूर करता है कि क्या ऐसा करके भाजपा को आगे हरा पाना संभव होगा? जो संभव नहीं है । पार्टी व मूवमेन्ट के हित में अब बीएसपी आगे होने वाले सभी छोटे-बड़े चुनाव अकेले अपने बूते पर ही लड़ेगी ।

Todays Beets: