Saturday, October 19, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

टूट गया सपा-बसपा गठबंधन , मायावती का ऐलान- सपा ने हमारी पार्टी तोड़ने की कोशिशें कीं , आगे सभी चुनाव लड़ेंगे अकेले

अंग्वाल न्यूज डेस्क
टूट गया सपा-बसपा गठबंधन , मायावती का ऐलान- सपा ने हमारी पार्टी तोड़ने की कोशिशें कीं , आगे सभी चुनाव लड़ेंगे अकेले

लखनऊ । लोकसभा चुनावों को लेकर बनाया गया सपा-बसपा गठबंधन ने आखिरकार अंतिम सांसें ले ली हैं । बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपना रुख साफ करते हुए एक ट्वीट किया । मायावती ने लिखा कि पार्टी के हित में अब बीएसपी आगे होने वाले सभी छोटे-बड़े चुनाव अकेले अपने बूते पर ही लड़ेगी । उन्होंने कहा कि बसपा की आल इण्डिया बैठक रविवार को लखनऊ में हुई थी, जो ढाई घण्टे तक चली । इसके बाद देर रात तक राज्यवार बैठकों का दौर चला । इस दौरान मीडिया मौजूद नहीं थी, फिर भी जो बातें मीडिया में आईँ, वह पूरी तरह ठीक नहीं है।


 

वहीं सपा नेता ने मायावती के इस रुख पर कहा कि हम खुद अब गठबंधन का हिस्सा नहीं बनेंगे । मायावती हम पर आरोप लगा रही हैं, जबकि वह शून्य से 10 सीटों तक पहुंच गई हैं। इसी क्रम में राज्य के उपमुख्यमंत्री कैशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि यह तो होना ही था। हमने पहले ही कहा था कि यह ठगबंधन है, जो लोकसभा चुनावों के बाद टूट जाएगा।

इससे इतर गठबंधन को लेकर मायावती ने कहा- वैसे भी जगजाहिर है कि सपा के साथ सभी पुराने गिले-शिकवों को भुलाने के साथ-साथ सन् 2012-17 में सपा सरकार के बीएसपी व दलित विरोधी फैसलों, प्रमोशन में आरक्षण विरूद्ध कार्यों एवं बिगड़ी कानून व्यवस्था आदि को दरकिनार करके देश व जनहित में सपा के साथ गठबंधन धर्म को पूरी तरह से निभाया। लोकसभा आमचुनाव के बाद सपा का व्यवहार बीएसपी को यह सोचने पर मजबूर करता है कि क्या ऐसा करके भाजपा को आगे हरा पाना संभव होगा? जो संभव नहीं है । पार्टी व मूवमेन्ट के हित में अब बीएसपी आगे होने वाले सभी छोटे-बड़े चुनाव अकेले अपने बूते पर ही लड़ेगी ।

Todays Beets: