Saturday, July 20, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

LIVE - राम -लक्ष्मण-सीता को भी पेंशन मिले, कुछ पैसा बचे तो रावण को भी पेंशन के तौर पर दे दें - अखिलेश यादव

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE - राम -लक्ष्मण-सीता को भी पेंशन मिले, कुछ पैसा बचे तो रावण को भी पेंशन के तौर पर दे दें - अखिलेश यादव

लखनऊ । समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोमवार को एक पत्रकार वार्ता में केंद्र की मोदी सरकार की साधु-संतों को दी जाने वाली योजना पर बयान दिया। उन्होंने कहा कि साधु-संतों को 20 हजार रुपये प्रतिमाह पेंशन दी जानी चाहिए। इसके साथ ही देश के ग्रामीण इलाकों में रामलीला के दौरान राम-लक्ष्मण-सीता बनने वाले किरदारों को भी पेंशन दी जानी चाहिए। अगर इस सब के बाद कुछ पैसा बच जाए तो रावण को भी कुछ पेंशन दी जानी चाहिए। हालांकि इस दौरान उन्होंने अपने खास अंदाज में केंद्र और यूपी की योगी सरकार पर कटाक्ष किए। उन्होंने भाजपा के उस सवाल का जवाब दिया , जिसमे उनसे पूछा गया था कि विपक्ष के पास पीएम का कौन उम्मीदवार कौन है, अखिलेश बोले - अब देश को नया पीएम चाहिए।  अगर भाजपा के पास कोई नया पीएम पद का उम्मीदवार है तो बताएं ।

बता दें कि कोलकाता में 22 विपक्षी दलों की मेगा रैली के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए अखिलेश बोले- मैं जाट समुदाय के लोगों को बधाई देता हूं कि उन्होंने भाजपा को आगामी लोकसभा चुनावों में वोट नहीं देना फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि अब देश की जनता को भाजपा पर भरोसा नहीं है।

उन्होंने कहा- जो लोग संस्कृति और समाज का ढंका पीटते हैं उनकी भाषा कल देखी आपने, बसपा नेता आदरणीय मायावती जी के लिए जिस स्तर की घटिया भाषा का इस्तेमाल किया वह गलत है।  उन्होंने कहा कि आप भाजपा के नेताओं की भाषा देखिए, मायावती के खिलाफ भाजपा की नेता का बयान साफ करता है कि उनका चाल चरित्र चेहरा क्या है। यह बात तो साफ है कि आने वाले लोकसभा चुनावों से पहले भाजपा की भाषा और बिगडेगी । 


अखिलेश ने कहा- देश की जनता इस बार ईवीएम के बजाए बेलेट से चुनाव लड़ना चाहती है। ऐसे में इस बार कहीं ईवीएम को सर्दी न लग जाए । उन्होंने कहा कि देश की जनता में भाजपा के खिलाफ इतना गुस्सा है कि वह बेलेट पेपर पर जोर से मुहर मारकर अपना गुस्सा उतारना चाहती है। 

अखिलेश यादव ने कहा भाजपा के पास काम का कोई ब्यौरा नहीं है इसलिए इस तरह की भाषा का इस्तेमाल कर ध्यान हटाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन इस बार चुनाव में जनता उन्हें जवाब देने के लिए तैयार बैठी है। 

Todays Beets: