Sunday, February 28, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

गायत्री प्रजापति के यहां छापेमारी में 11 लाख के पुराने नोट मिले , स्टॉफ- रिश्तेदारों के नाम से 100 संपत्तियों के दस्तावेज बरामद

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गायत्री प्रजापति के यहां छापेमारी में 11 लाख के पुराने नोट मिले , स्टॉफ- रिश्तेदारों के नाम से 100 संपत्तियों के दस्तावेज बरामद

लखनऊ । यूपी की सपा सरकार में मंत्री रहे गायत्री प्रजापति के लिए वर्ष 2020 और भी खराब हो गया है । खनन घोटाले को लेकर बीते दिन प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने गायत्री प्रजापति के अमेठी वाले घर पर छापेमारी की थी । अब सामने आया है कि उनके घर से कुल 11 लाख रुपये के पुराने नोट बरामद हुए हैं । इसके अलावा प्रवर्तन निदेशालय को इस छापेमारी के दौरान 5 लाख रुपये के सादे स्टाम्प , डेढ़ लाख रुपये नकद और कई कर्मचारियों के नाम से खरीदी गई 100 से अधिक बेनामी संपत्तियों के दस्तावेज़ मिले हैं । 

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय ने पूर्व  खनन मंत्री रहे गायत्री प्रजापति के अमेठी के आवास और दफ्तर पर छापा मारा था । इस छापेमारी में ईडी को कई दस्तावेज मिले हैं । इनकी पड़ताल से सामने आया है कि गायत्री प्रजापति की लखनऊ, कानपुर, मुंबई, सीतापुर समेत छह से ज्यादा शहरों में संपत्ति है । ईडी ने दावा किया है कि यह सारी संपत्ति खनन की कमाई से बनाई गई है । ईडी के अनुसार , इस काली कमाई से कई बेनामी संपत्तियों में निवेश किया गया है । यह बेनामी संपत्तियां करीबी रिश्तेदारों, निजी सहायकों और ड्राइवरों के नाम पर ली गई हैं ।  


विदित हो कि प्रजापति अभी रेप के एक मामले में जेल में बंद हैं । खनन  मामले में उनके खिलाफ ईडी और सीबीआई जांच कर रही है । इसी के चलते उनके और उनके रिश्तेदारों के घर छापेमारी हो रही है । 

इस मामले में जांच एजेंसियों की नजर पूर्व सीएम रहे अखिलेश यादव पर भी है । अखिलेश यादव 2012 से 2017 तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और 2012 से 2013 तक राज्य के खनन मंत्री रहे हैं. 2012 से 2016 के बीच अवैध खनन हुआ था । 

Todays Beets: