Wednesday, October 28, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

Bihar Assembly Election 2020 - एनडीए के सामने गठबंधन बचाने का संकट , LJP ने बिगाड़ा टिकटों का समीकरण

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Bihar Assembly Election 2020 - एनडीए के सामने गठबंधन बचाने का संकट , LJP ने बिगाड़ा टिकटों का समीकरण

पटना । बिहार विधानसभा चुनावों का बिगुल बज चुका है । चुनाव आयोग ने चुनावों की तारीखों का ऐलान करने के साथ ही इस बार गाइडलाइन भी जारी कर दी है । इस सबके बीच सियासी दलों की रणनीति को अंतिम रूप देने की योजनाएं बन रही हैं , लेकिन इस सबके बीच एनडीए को झटका लगा है । केंद्र और राज्य सरकार को अपना समर्थन देने वाली लोक जनशक्ति पार्टी ने टिकटों को लेकर एनडीए के समीकरण को बिगाड़ दिया है । जदयू ने गठबंधन के सामने अपनी बात रखते हुए इस बार के विधानसभा चुनावों में 42 सीटों की मांग की है । साथ ही गठबंधन को चेतावनी दी है कि अगर उन की मांग पूरी नहीं की गई तो वह अकेले भी चुनावों में उतर सकती है । 

बता दें कि पिछले कुछ समय से लोजपा के नेता चिराग पासवान सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ हमलावर रहे हैं । कुछ मुद्दों पर उन्होंने नीतीश सरकार को भी आड़े हाथों लिया , हालांकि इस दौरान कहा जा रहा था कि यह सब चुनावी दांव पेच हैं , जो विधानसभा चुनावों के नजदीक आने के सथ ही लोजपा की ओर से चले जा रहे थे । लेकिन अब जब चुनावों का शंखनाद हो चुका है , लोजपा ने इस बार के चुनावों में गठबंधन से अपने लिए 42 सीटें मांगी हैं । 

एलजेपी ने गठबंधन के नेताओं के सामने पार्टी नेता चिराग पासवान ने यह तर्क रखा है कि उन्हें वर्ष 2015 के विधानसभा चुनावों में 42 सीटों पर लड़ने का मौका मिला था । ऐसा इसलिए क्योंकि 2014 के लोकसभा चुनावों में उन्हें 7 सीटें मिली थी । वहीं वर्ष 2019 के लोकसभा चुनावों में उन्हें 6 सीटें मिली थी , जिसके अनुपात को अगर देखे तो इस बार भी उन्हें 42 सीटें मिलनी चाहिए । 


चिराग पासवान ने अपनी मांग रखते हुए साफ कर दिया है कि उन्हें 33 विधानसभा सीटों के साथ ही बिहार के राज्यपाल द्वारा मनोनीत 12 एमएलसी में से 2 MLC का कोटा मिलना चाहिए। इतना ही नहीं उन्हें अक्तूबर में होने वाले राज्यसभा चुनावों में से एक सीट उनकी पार्टी को दी जाएगी। 

चिराग पासवान ने अपने फॉर्मूले में जो बात रखी है उसके अनुसार , अगर उन्हें राज्यसभा की सीट नहीं मिलती है तो एनडीए अपने घोषणापत्र के साथ यह भी ऐलान करे कि इस बार भाजपा के एक प्रतिनिधि के साथ ही एलजेपी से चिराग पासवान भी राज्य के उपमुख्यमंत्री बनाए जाएंगे । 

बरहाल , इस सबके बाद ऐसी खबरें हैं कि उनकी मांगों को देखते हुए आज बिहार के भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव आज दोपहर बाद चिराग पासवान से मुलाकात कर इस मुद्दे पर आम राय बना सकते हैं । चिराग पासवान का कहना है कि इस समय राज्य में नीतीश कुमार के खिलाफ माहौल बना हुआ है , अगर उनके नेतृत्व में चुनाव लड़ा गया तो एनडीए चुनाव हार भी सकती हैं। 

Todays Beets: