Wednesday, August 5, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

बिहार के गोपालगंज में 264 करोड़ की लागत से बना पुल ढहा, पिछले महीने ही सीएम ने किया था उद्घाटन

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बिहार के गोपालगंज में 264 करोड़ की लागत से बना पुल ढहा, पिछले महीने ही सीएम ने किया था उद्घाटन

पटना । कोरोना काल में लॉकडाउन और बाढ़ से जूझ रही बिहार की नीतीश सरकार की मुसीबतें कम होती नजर नहीं आ रही हैं । असल में राज्य में सुशासन का दावा करने वाली नीतीश सरकार के दावों पर पलीता लगता नजर आ रहा है । नीतीश सरकार में गोपालगंज में एक महीने पहले ही 264 करोड़ की लागत से बने पुल का एक हिस्सा ढह गया है । महीने भर पहले ही सत्तरघाट महासेतु का उद्धाटन हुआ था । प्रशासन की तरह से बयान आ रहा है कि पानी के ज्यादा दबाव के कारण पुल टूट गया है । हालांकि इस पुल के टूटने से लोगों के लालछापर, मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, बेतिया जाने का लिंक बंद हो गया है ।

बता दें कि गत 16 जून को सीएम नीतीश कुमार ने पटना से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस पुल का उद्घाटन किया था । ये पुल गोपालगंज को चंपारण से और इसके साथ तिरहुत के कई जिलों को जोड़ता था । इस सबके बीच राज्य में आई बिहार ने लोगों को परेशानी में डाला हुआ है । गोपालगंज में बुधवार को तीन लाख से ज्यादा क्यूसेक पानी का बहाव था । गंडक के इतने बड़े जलस्तर के दबाव से इस महासेतु का एप्रोच रोड टूट गया । बैकुंठपुर के फैजुल्लाहपुर में यह पुल टूटा है । 


भाजपा विधायक मिथिलेश तिवारी ने इस मामले की जानकारी बिहार के पथ निर्माण विभाग के मंत्री नंदकिशोर यादव को दी है । इस सेतु का निर्माण बिहार पुल निर्माण विभाग द्वारा कराया गया था । साल 2012 में इस पुल का निर्माण शुरू किया गया था और गत माह ही इसका काम पूरा होने पर इसका उद्घाटन किया गया था । 

इस घटना पर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया है । उन्होंने कहा कि 8 वर्ष में 263.47 करोड़ की लागत से निर्मित गोपालगंज के सत्तर घाट पुल का 16 जून को नीतीश कुमार ने उद्घाटन किया था । 29 दिन बाद यह पुल ध्वस्त हो गया । खबरदार! अगर किसी ने इसे नीतीश का भ्रष्टाचार कहा तो? 263 करोड़ तो सुशासनी मुंह दिखाई है. इतने की तो इनके चूहे शराब पी जाते हैं ।

Todays Beets: